ईरान ने मानी अपनी गलती, उसी ने मि’सा’इल दाग गिरा दिया था यात्री विमान

2117

8 जनवरी को तेहरान एयरपोर्ट से उड़ान भरे के कुछ ही देर बाद दु’र्घट’ना’ग्रस्त हुए यात्री विमान के बारे में खुलासा हुआ है. ईरान ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए कहा है कि उसने ही गलती से विमान को मा’र गिराया था. इस विमान हादसे में 176 यात्रियों की मौ’त हो गई थी, जिनमे से ईरान के 82 और कनाडा के 63 नागरिक थे.

अमेरिका और ईरान के बीच जारी तना’व के बीच दुनिया भर के देश पहले से ही अंदाजा लगा रहे थे कि ईरान ने ही विमान को गिराया है लेकिन ईरान मान नहीं रहा था. आखिरकार अब उसने मान लिया है. ईरानी मि’साइ’लों ने ही विमान को गलती से नि’शा’ना बनाया था. ईरान के विदेश मंत्री ने इसकी पुष्टि करते हुए खेद जताया है.

ईरान के विदेश मंत्री ट्वीट कर कहा, ‘दुखी करनेवाला दिन। आ’र्मी की शुरुआती जांच में सामने आया है कि अमेरिका के ह’म’ले के वक्त मानवीय भूल की वजह से हा’द’सा हुआ. इसपर हम पछतावा और खेद व्यक्त करते हुए पी’ड़ितों के परिवारों से माफी मांगते हैं.’

अमेरिका द्वारा ईरानी कमांडर सुलेमानी के मा’रे जाने के बाद ईरान ने ब’द’ले की कारवाई के तहत इराक में मौजूद अमेरिकी एयरबेस पर मि’साइ’ल दागे थे. उसी वक़्त तेहरान एअरपोर्ट से उड़ान भरा विमान दु’र्घट’नाग्र’स्त हो गया था. उस वक़्त ईरान ने अपनी गलती मानने से इनकार कर दिया था.