ANI को दिए इंटरव्यू में PM मोदी ने राम मंदिर, सर्जिकल स्ट्राइक, चुनावी हार समेत कई मुद्दों पर की बात फिर क्यों उठ रहे है सवाल ?

547

चुनावी साल 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi Interview)ने समाचार एजेंसी ANI को दिए 95 मिनट के इंटरव्यू में कई मुद्दों पर बात की. इसमें राम मंदिर (Ram Temple), RBI बनाम सरकार, नोटबंदी (Demonetisation), जीएसटी (GST), मॉब लिंचिंग (Mob Lynching), तीन राज्यों में BJP की हार, कांग्रेस द्वारा की गई किसानों की कर्जमाफी, सर्जिकल स्ट्राइक (Surgical Strike), सीमापार आतंकवाद (Cross Border Terrorism) प्रमुख रूप से शामिल रहे. पीएम मोदी ने कहा कि हमारे लिए साल 2018 बेहद सफल रहा. साल के अंत में 5 राज्यों में चुनावी हार से मोदी लहर खत्म होने की बात को भी उन्होंने खारिज कर दिया. पीएम ने कहा कि हमनें कोई भी ऐसा कार्य नहीं किया है, जिससे देश की जनता हमारी सरकार से दूर जाने की कोशिश करे, मेरा देश की जनता जनार्दन और देश के युवाओं पर पूरा भरोसा है. पीएम ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सबका साथ-सबका विकास के मंत्र को लेकर के जनविश्वास को जीतते हुए प्रगति कर रही है और पूरे आत्म विश्वास से आगे बढ़ रही है. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लाने पर फैसला न्यायिक प्रक्रिया के पूरा होने के बाद ही लिया जाएगा.

Source-BBC

जब से मोदी ने ANI को इंटरव्यू दिया है ,तब से ही कुछ काबिल पत्रकारों ने कहना शुरू कर दिया है की ये इंटरव्यू फिक्स्ड था .पहले यही पत्रकार कहते थे की मोदी इंटरव्यू नहीं देते पर जब इंटरव्यू दिया तो कहने लगे ये फिक्स्ड इंटरव्यू था ,इनके आये हुए रिएक्शन से तो ऐसा लगता है ,की अगर मोदी इंटरव्यू दे तो भी वो गलत न दे तो भी. बरखा दत्त और सागरिका गोश जी कहती है स्क्रिप्टेड इंटरव्यू से अच्छा एक प्रेस कांफेरेस ही कर लो ,

वही ndtv की पत्रकार है निधि जी ने कहा की बहुत पॉइंट कवर किये है इस इंटरव्यू में काबिल पत्रकारों के अलावा देश की जनता ने और हमने भी इस इंटरव्यू को देखा है, इंटरव्यू में हर मूदे पर बात की गई थी ,चाहे चुनाव हरने को लेकर हो ,या सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर और भी बहुत से मुद्दे थे, और हम आपको इंटरव्यू के मुद्दों की समरी पहले ही अपने चैनल के माध्यम से दिखा चुके है , चलिए हम आपको दिखाते राहुल और सोनिया जी के कुछ उन्प्लान इंटरव्यू तो अब आप भी बहुत अच्छे से समझ गये होंगे, कि कौन से फिक्स्ड होते है कौन से नहीं .

अब जिस ओपन प्रेस कांफेर्स की बात ये लोग रहे है ,वो भी आपको दिखा देते है ,ये सब देखने के बाद हम इन काबिल लोगों से यही कहेंगे की फेक न्यूज़ फैलाना बंद कर दीजिये , कभी तो किसी बात को सीरियसली लिया कीजिये, क्योंकी ये जनता है सब समझती है .