लखनऊ के जिस अस्पताल में भर्ती किये गये थे कोरोना के 47 मरीज, अब वहां से आ रही है ये बड़ी खबर

कोरोना के बढ़ रहे कहर ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है क्योंकि एक तरफ जनता को ढील देने की सोच रही है और बड़े कदम उठा रही हैं. वहीँ दूसरी ओर हर दिन कोरोना के बढ़ रहे मरीजों के आंकड़ों ने सरकार की बेचैनी बढ़ा दी है. लॉकडाउन में मिली छूट के दौरान पिछले कई दिनों से रिकॉर्ड तोड़ मरीज बढ़ रहे हैं. बीते दिन करीब 3 हजार और उससे पहले 4 हजार मरीज बढ़ने के बाद अब भारत में कोरोना से मरीजों की संख्या 52 हजार के पार हो गयी है.

जानकारी के लिए बता दें उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना को लेकर एक के बाद एक करके ताबड़तोड़ फैसले ले रहे हैं. उन्होंने अपने राज्य के बाहर फंसे प्रवासी मजदूरों को निकालने के लिए पुख्ता इंतजाम किये हैं. वहीँ उन्होंने कोरोना वारियर्स से अभद्रता या फिर कोई और हरकत करने पर भी नया कानून बनाकर सजा के कड़े प्रावधान लागू कर दिए हैं. इसी बीच एक बड़ी खबर उत्तरप्रदेश के लखनऊ से आ रही है जहाँ कोरोना के 47 मरीज भर्ती थे.

दरअसल लखनऊ के इंटीग्रल अस्पताल में जिला प्रशासन के आदेश पर 17 अप्रैल को कोरोना के 47 मरीज भर्ती कराये गये थे. जिनको लेकर अच्छी खबर ये आ रही है कि यूपी के लखनऊ में भर्ती किये गये कोरोना के ये सभी मरीज ठीक ही गये हैं और उन्हें छुट्टी दे दी गयी है. 47 लोगों में से 37 पुरुष थे और 10 महिलाएं थी. इतना ही नहीं इन लोगों में 5 साल से लेकर 65 वर्ष तक के रोगी थे जोकि सभी ठीक हो गये हैं.

गौरतलब है कि सीएम योगी के अथक प्रयासों के बाद राज्य से कोरोना को लेकर ये बहुत बड़ी खबर है. सभी मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें मंगलवार को अस्पताल से छुट्टी दे दी गयी है. सबसे बड़ी ख़ुशी की बात ये है कि इनमे से किसी को भी ICU में भर्ती नहीं किया गया था. अगर इसी तरह हमारे देश में डॉक्टर इलाज करने में सफल होते रहे तो जल्द ही हम कोरोना से जीतेंगे लेकिन इस समय सरकार के नियमों को पालन करने की आवश्यकता है.