कोरोना संक्रमण को रोकने  के लिए देश के पीएम नरेन्द्र मोदी ने  देश में जनता कर्फ्यू का ऐलान किया है. देश की जनता से कहा गया है कि सभी लोग अपने घर पर रहें ताकि कोरोना के प्रकोप से जितना बचा जा सके उतना अच्छा है. जिसका सभी लोगों को पालन करना चाहिए. क्योंकि कोरोना को लेकर देश के अंदर काफि ज्यादा मात्रा में वायरस फैल रहा है जिसको रोकने के लिए केन्द्र सरकार ने कई बड़े कदम उठाये हैं..  

कोरोना वायरस को देखते हुए भारतीय रेल ने भी एक बड़ा फैसला लिया है. इंडियन रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों का परिचालन बंद करने का फैसला किया है. रेलवे ने बताया है कि सभी लंबी दूरी की ट्रेनें, एक्सप्रेस और इंटरसिटी ट्रेन (प्रीमियम ट्रेन भी शामिल) का परिचालन 31 मार्च की रात 12 बजे तक बंद रहेगा. शायद ये पहेली बार ऐसा होगा जब रेलवे ने इतना बड़ा फैसला लिया है.

इंडियन रेलवे की ओर से जारी सूचना में बताया गया है कि रद्द ट्रेनों की सूची में कोलकाता मेट्रो, कोंकण रेलवे, उपनगरीय ट्रेनें नहीं चलेंगीं. हालांकि आज रात 12 बजे तक उपनगरीय ट्रेनें, कोलकाता मेट्रो की सेवाएं जारी रहेगीं. वैसी ट्रेनें जो 22 तारीख से 4 घंटे पहले चलनी शुरू हुई थीं, वो अपने गंतव्य स्थान तक जाएंगी. रेलवे बोर्ड की बैठक में ये फैसला लिया गया है.रेलवे ने कहा कि देश भर में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई के लिए मालगाड़ी चलती रहेगीं.

रेलवे ने लोगों से अपील कि आप अपनी और अपने प्रियजनों की सुरक्षा के लिए सभी यात्राओं को टाल दीजिए. वहीं, कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोग ट्रेन में यात्रा करने से बच रहे हैं. इसके चलते काफी संख्या में लोगों ने टिकट कैंसिल करवा दिए हैं. साथ ही रेलवे ने 31 मार्च तक कई ट्रेनों को रद्द भी कर दिया है.

देश कोरोना महामारी से लड़ रहा है, और इस लड़ाई के अहम हथियार की तरह है जनता कर्फ्यू. मतलब जनता खुद सड़कों पर न निकले. इसमें तमाम सेवाएं स्थगित हैं. लेकिन तब भी हर जरूरी सेवा जारी है. इलाज जारी है. जरूरी चीजें मिल रही हैं. इसलिए अगर बहुत जरूरी है तभी आप घर से निकले नही तो घर में रहें है. जिससे छुद को और लोगो को कोरोना से बचा सकें.