देशभर में लगातार बढ़ रहे कोरोना के प्रकोप के चलते सरकार द्वारा उठाये जा रहे कदमों की जितनी सराहना की जाए वो कम है. मोदी सरकार के साथ राज्य सरकारें भी अपनी देश की जनता को इस गंभीर बीमारी से बचाने के लिए लगातार एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही है. कोरोना के संक्रमण के खतरे को देखते हुए भारतीय रेलवे ने 31 मार्च तक सभी यात्री ट्रेनों को कैंसल कर दिया है.

जानकारी के लिए बता दें मोदी सरकार के नेतृत्व में भारतीय रेलवे ने जो शानदार काम किया है वो आज किसी से छिपा नहीं है. ट्रेनें कैंसिल करने के बाद अब रेलवे उन सभी डिब्बों के साथ जो कर रहा है वो कोई सोच भी नहीं सकता है. अब रेलवे उन ट्रेनों के सभी डिब्बों को कोरोना से मुक्त करने के अभियान में जुट गया है. रेलवे के इस प्रयास के चलते सभी कोचों को इन्फेक्शन से मुक्त किया जा रहा है.

भारतीय रेलवे कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने को किस तरह मुस्तैद है इसका अंदाजा आप इस बात से ही लगा सकते हैं कि ट्रेन के डिब्बों से इंटीरियर से लेकर एक्सटीरियर तक को डिसइन्फेक्ट किया जा रहा है. इतना ही नहीं हर ट्रेन की धुलाई हो रही है और उसे सैनिटाईजेशन किया जा रहा है. इससे पहले भारतीय रेलवे की ट्रेन की यात्रा पूरी होने के बाद सिर्फ पानी से ही धुलाई की जाती थी और फिर उसे वापस से रवाना कर दिया जाता था.

गौरतलब है कि भारतीय रेलवे ने इससे पहले कोरोना से संक्रमित महिला जिस कोच में बैठकर आई थी उसको लेकर भी बड़ा कदम उठाया था. जिस कोच में कोरोना से संक्रमित महिला बैठकर आयी थी रेलवे ने उस डिब्बे को ही ट्रेन से अलग कर दिया था और उसे लगातार सैनिटाईजेशन किया गया. कोरोना को लेकर रेलवे जो लड़ाई लड़ रहा है वो काबिले-ए-तारीफ है.