स्टेशनों पर फंसे यात्रियों को लेकर रेलवे ने दिया ये बड़ा तोहफा

देशभर में कोरोना को लेकर हाहाकार मचा हुआ है. केंद्र सरकार और राज्य सरकार इससे निपटने के लिए लगातार एक के बाद एक बड़ा कदम उठा रही हैं. पंजाब के बाद महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने अभी हाल ही में लॉकडाउन के बाद अब सीधे कर्फ्यू लगा दिया है. उनका कहना है कि जनता लॉकडाउन का पालन नहीं कर रही थी जिसके चलते ये बड़ा फैसला लिया गया है. दरअसल महाराष्ट्र में इस समय सबसे ज्यादा कोरोना से संक्रमित लोग पाए गये हैं. अब इसी बीच एक बड़ी खबर आ रही है.

जानकारी के लिए बता दें कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते भारतीय रेलवे ने सभी यात्री ट्रेन को 31 मार्च तक कैंसिल करने के ऐलान किया था, जिससे यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जो रेलवे ने एक साथ इतनी ट्रेनों को रद्द किया है. मोदी सरकार के नेतृत्व में भारतीय रेलवे एक के बाद एक बड़ा कदम उठा रही है. रेलवे ने अब फंसे हुए यात्रियों को बड़ा तोहफा दिया है.

रेलवे ने कई जगहों पर फंसे यात्रियों को रिटायरिंग रूम में ठहरने का आदेश दे दिया है. रेलवे ने कहा है कि सामान्य सेवायें फिर से शुरू होने तक यात्री रिटायरिंग रूम में ठहर सकते हैं. मौजूदा नियमों की बात करें तो यात्री न्यूनतम 3 घंटे और अधिकतम 48 घंटे के लिए रिटायरिंग रूम बुक कर सकते थे जिसे अब रेलवे ने सामान्य सेवाएं बहाल हो जाने तक बढ़ा दिया है.

गौरतलब है कि रेलवे के इस नियम के बाद अब स्टेशनों पर फंसे यात्रियों को परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा. दरअसल कई शहरों में हुए लॉकडाउन के बाद स्टेशनों पर भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी और लोग शहर से अपने गाँव की तरफ भागने लगे जबकि सरकार का आदेश है कि लोग जहाँ हैं वहीं घरों में सुरक्षित रहें ना कि यात्रायें करें. यात्रा से बचें जिससे बाकी लोगों में यह वायरस न फ़ैल सके. रेलवे के ट्रेनें रद्द करने के फ़ैसले के बाद 12500 ट्रेनों का संचालन रुक गया है. मालगाड़ियों का संचालन जारी है.