15 अप्रैल से ट्रेनें चलाई जाने की खबरों का रेलवे ने किया खंडन और दिया ये बड़ा बयान

कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है. सरकार जनता को लेकर एक के बाद एक बड़े कदम उठा रही है जिससे इस बीमारी फैलने से रोका जा सके. देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा कदम उठाते हुए 21 दिन के लिए पूरे देश में लॉकडाउन किया था और लोगों से खुद अपील की थी वो अपने घरों में ही सुरक्षित रहें और नियमों का पालन करें. साथ ही आसपास के लोगों के संपर्क में न रहें.

जानकारी के लिए बता दें सरकार के इस आदेश के बाद रेलवे, बस और हवाई सेवाओं को भी रोक दिया गया, जिसके बाद अब खबर आ रही थी कि 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद 15 अप्रैल से भारतीय रेलवे ट्रेन चलाने की तैयारी कर रहा है. इस खबर को लेकर रेलवे ने अपना फरमान जारी किया है, जो लोग 15 अप्रैल से ट्रेन चलने की उम्मीद पर बैठे हुए थे उन्हें बड़ा झटका लगा है.

इन खबरों का खंडन करते हुए रेलवे ने अपने जारी बयान में कहा है कि रेल मंत्रालय ने अभी तक न तो लॉकडाउन के बाद ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है और न ही यात्रियों के लिए कोई प्रोटोकॉल जारी किया है. रेलवे ने कहा है कि यात्रियों सहित सभी स्टेक होल्डर्स के हितों को ध्यान में रखते हुए अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है. रेलवे ने ये भी साफ़ किया है कि रेलवे से संबंधित सभी लोगों से अनुरोध है कि वह मीडिया के कुछ हिस्सों द्वारा दिखाई जा रही भ्रामक खबरों से दूर रहें.

गौरतलब है कि लॉकडाउन के बाद ट्रेनों का संचालन शुरू होने की सभी खबरों का खंडन करते हुए रेलवे ने अभी यही कहा है कि इस संबंध में कोई फैसला लिया जायेगा तो सभी संबंधित लोगों को इसके बारे में सूचना दे दी जाएगी. रेलवे की तरफ से 14 अप्रैल तक के लिए यात्री गाड़ियों की सेवा को रोक दिया गया है लेकिन मालगाड़ियों का संचालन जारी है. अब आगे क्या होता है इसका फैसला जल्द ही सरकार ले सकती है.