भारतीय रेल ने राज्यों को दिया बड़ा तोहफ़ा,कहा 15 रुपये में मिलेगा ये खाने का पैकेट

1293

कोरो’ना वायरस म’हामा’री के खि’लाफ जारी लड़ाई में देश के हर नागरिक से लेकर बड़ी बड़ी हस्तियाँ आज सरकार के साथ खड़ी दिख रहीं हैं. इस महामारी से लड़ने के लिए भारतीय रेलवे ने भी मदद के लिए अपने हाथ खोल दिए हैं. इससे पहले रेलवे ने अपने ट्रेन के काचे को आईसोलेशन ववर्ड बना दिए थे. आज रेलवे ने लोगों की मदद करने के लिए आज अपना रेलवे का किचन खोल दिया हैं.

रेल मंत्रालय ने इस बिमारी को देखते हुए कोई भूखा न रह जाये उसके लिए आज उसने राज्यों को देश भर में फैले रेलवे किचन से रोजाना 2.6 लाख भोजन उपलब्ध कराने की पेशकश की है. भोजन के पैकेट 15 रुपये प्रति पैकेट की दर से उपलब्ध होंगे. रेलवे ने राज्यों को पैसे का भुगतान बाद में करने की सहूलियत दी है.

देश में 3 मई तक पूरी तरह से लॉकडाउन किया गया है. ऐसे में गरीब और जरूतरमंद लोगों को खाना उपलब्ध कराने के लिए रेलवे कई तरह के प्रयास पहले से ही कर रहा है. वहीं देश के हर हिस्से में लोगों को आवश्यक वस्तुएं मिल सकें इसके लिए रेलवे विशेष पार्सल स्पेशल ट्रेनें चला रहा है. रेलवे ने अपनी विभिन्न किचन से प्रतिदिन 2.6 लाख भोजन के पैकेट उन सभी जिलों में देने की पेशकश की है जहां का प्रशासन लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंदों में वितरित करने के लिए बना बनाया भोजन लेने को तैयार हों.

मंत्रालय की ओर से कहा गया कि इस संबंध में देशभर के जिलों के अधिकारियों को सूचना दे दी गई है. मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि मंडल के अनुसार रसोइयों का ब्यौरा राज्यों को दे दिया गया है. प्रतिदिन 2.6 लाख भोजन के पैकेट की पेशकश निर्दिष्ट स्थानों की रसोई की क्षमता को देखते हुए की गई है. आवश्यकता पड़ने पर आपूर्ति बढ़ाने के लिए और रसोइयों का उपयोग किया जाएगा. भोजन के पैकेट 15 रुपये प्रति पैकेट की दर से उपलब्ध होंगे.



रेलवे ने कहा है कि भुगतान की बात हम राज्य सरकारों से बाद में करेंगे. रेलवे अधिकारियों ने कहा कि भोजन की अतिरिक्त मांग का भुगतान भी राज्यों को करना होगा. भारतीय रेलवे ने आज के बुरे वक़्त में कोई भूखा पेट ना सोये उसके लिए उसने दिहाड़ी मजदूर, श्रमिक और प्रावासी लोगों की मदद करने के लिए आज एक बार फिर भारतीय रेलवे सामने आया हैं.