खाने की बर्बादी को लेकर रेलवे की जबरदस्त पहल! आप भी करेंगे तारीफ

1490

भारतीय रेल से रोज करोड़ो लोग सफर करते हैं. सफ़र के दौरान लोग खाने-पीने की भी अच्छी व्यवस्था लेकर चलते हैं या फिर स्टेशन पर बने कैंटीन से खाना खाते हैं. आपने देखा ही होगा कि स्टेशन पर ना जाने कितने खाद्य पदार्थ फेंक दिए जाते है. इसके पीछे कई कारण है. किसी के पास खाना बच जाता है तो किसी का खाना ज्यादा हो जाता है. अक्सर हमें सलाह दी जाती है कि सफ़र के दौरान किसी का दिया हुआ नही खाना चाहिए ऐसे में इस खाने को फेंकने के अलावा कोई रास्ता नही बचता था लेकिन अब ऐसा नही होगा.

दरअसल साउथ वेस्टर्न रेलवे (South Western Railway) ने हुबली स्टेशन पर 6 फुट ऊंचा फ्रिज (Fridge) लगाया है जिसमें 5 रैक हैं. इनमें 2 रैक पके हुए खाने को रखने के लिए जबकि 2 रैक फल और सब्जियों को रखने के लिए बनाए गए हैं. इस फ्रिज की कीमत 80000 रुपये है. इसका मूल उद्देश्य ही मुसाफिरों और स्टेशन के फूड कोर्ट (Food Court) में बचे अतिरिक्त भोजन को सुरक्षित रखना है. जरूरतमंद लोग इस फ़ूड कोर्ट से खाना ले सकते है. एक बात यहाँ आपको यह भी बता दें कि इस जनता फ्रिज में नॉनवेज खाने के लिए कोई जगह नही दी गयी है, जिससे सभी लोग खाना खा सके. फुट फॉल के साथ ही उनके इस्तेमाल करने के बाद भारी मात्रा में खाने वाले सामानों की बर्बादी भी होती है. इसलिए रेलवे को कोशिश है कि इस जनता फ्रिज की योजना का विस्तार किया जाए ताकि देशभर में भोजन की बर्बादी को अपने स्तर पर रोक सके. इस फ्रिज को लगाए जाने के बाद से इसका प्रचार प्रसार किया जा रहा है जिससे लोगों को ये बताया जा सके कि आप बचा हुआ खाना इस फ्रिज में लाकर रख दीजिये, जरूरतमंद इसे उपयोग में ला सके.

इसके साथ ही ऐसे काम को आगे बढ़ाने के लिए NGO से भी संपर्क किया जा रहा है. भारतीय रेल में हर रोज़ करीब 2.5 करोड़ मुसाफिर सफर करते हैं. रेलवे की कोशिश है कि इस जनता फ्रीज़ की योजना का विस्तार किया जाए ताकि देशभर में भोजन की बर्बादी को अपने स्तर पर रोक सके.

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के मुताबिक भारत में 40 फीसदी खाना बर्बाद हो जाता है, जिसकी कीमत करीब 50 हज़ार करोड़ रुपये होती है. इसमें रख रखाव, आवंटन और बचे हुए भोजन को फेंक देना सबसे बड़ा कारण है. शादी, पार्टी और तमाम प्रकार के आयोजन में बड़े पैमाने पर खाने का नुकसान होता है. कई संगठन इस बचे हुए खाने को जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाने का काम करने में लगे हुए हैं. आपसे भी हम अपील करते हैं कि अगर आपके पास बचा हुआ खाना है तो उसे फेंकने के बजाय किसी जरूरतमंद तक पहुंचाइये.