राजनीति के दावपेंच छोड़ एक हुआ विपक्ष, सभी राजनैतिक पार्टियों का संयुक्त समर्थन

394

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद आतंकी कैंपों पर भारतीय फौज की जवाबी कार्रवाई की विपक्षी दलों ने सराहना की। दिल्ली में बुधवार को इक्कीस विपक्षी दलों की बैठक हुई जिसमें भारतीय सेना के शौर्य की सराहना की गई। इसके साथ पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद की निंदा भी की गई। उन्होंने कहा कि देश के सामने जो चुनौती है उसमें किसी तरह से किसी भी रूप में मतभेद या मनभेद का सवाल ही नहीं बनता है।

विपक्षी दलों की बैठक के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि सभी दलों ने 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ काफिले पर आतंकी हमले की आलोचना की। उन्होंने कहा कि जिस तरह से भारतीय सेना ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए पीओके और बालाकोट में आतंकी ठिकानों को तबाह किया वो काबिलेतारीफ है। सभी दलों को भारतीय फौज पर गर्व है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार को इस मुद्दे पर पारदर्शी तरह से विपक्षी दलों के साथ राय साझा करनी चाहिए।

राहुल गांधी ने कहा कि जब जब देश की सुरक्षा की बात सामने आई भारतीय फौज ने  पूरी बहादुरी के साथ दुश्मनों का सामना किया। पाकिस्तान की तरफ से जिस तरह का दुस्साहस दिखाया जा रहा है, उसका मुंहतोड़ जवाब देना जरूरी है। ये गर्व की बात है भारतीय सेना अपनी जिम्मेदारी को पूरी तरह अंजाम दे रही है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार को किसी भी महत्वपूर्ण फैसले से पहले विपक्षी दलों को भरोसे में लेना भी जरूरी है। राहुल गांधी ने कहा कि देश की एकता और अखंडता के साथ किसी तरह से समझौता नहीं किया जा सकता है। 

खुद राहुल ने ‘खून की दलाली” वाला बयान दिया था| जिसके बाद सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो आया तो पार्टी को खासी किरकिरी का सामना करना पड़ा. ऐसे में इस बार जब पुलवामा हमला हुआ तो राहुल ने मीडिया से मुखातिब होकर कहा कि, वो इस वक़्त सरकार के साथ खड़े हैं| साथ ही पार्टी नेताओं को भी करीब एक हफ्ते तक बयानबाज़ी से रोक दिया| खुद राहुल और प्रियंका गांधी शहीदों के परिजनों से मिलने भी गए तो भी खास ख्याल रखा कि, कोई राजनैतिक बयानबाज़ी ना हो.

राजनीतिक विरोध कितने भी क्यों ना हो लेकिन जब देश या देश की सेना को कोई चुनौती दे तो उसे सबक़ सिखाने के लिए हर कोई एकजुट है| 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद यूपी में चुनावी यात्रा पर निकले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फौरन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सरकार का समर्थन करते हुए सेना को शाबाशी दी थी लेकिन उसके बाद कांग्रेस नेता संजय निरुपम और कुछ नेताओं ने सर्जिकल स्ट्राइक के सुबूत मांग डाले|

कुछ यूं ही जब अब भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की तो नेताओं में सबसे पहले करीब साढ़े नौ बजे राहुल ने ट्वीट किया और भारतीय वायुसेना के पायलटों को सलाम किया| इसके बाद राहुल ने मीडिया विभाग को साफ निर्देश दिया कि, सिवाय वायुसेना के पायलटों को बधाई देने के कोई भी मीडिया या ट्विटर पर बयानबाज़ी नहीं करेगा| यही वजह रही कि, किसी कांग्रेसी ने ट्विटर पर या मीडिया में कोई बयान नहीं दिया| पार्टी की तरफ से सिर्फ पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी को आधिकारिक तौर पर बयान देने को कहा गया|

पूर्व रक्षा मंत्री ने भी नपे तुले शब्दों में भारतीय वायुसेना को बधाई दी और पाकिस्तान को बाज आने को कहा| इतना ही नहीं राहुल के मीडिया विभाग को ये भी सीधे निर्देश दिए कि, मणिशंकर अय्यर जैसे जो नेता अमूमन बयानबाज़ी के लिए जाने जाते हैं, उनको व्यक्तिगत तौर पर उनका सन्देश दे दिया जाए. मीडिया विभाग ने ऐसा किया भी, जिसके बाद पार्टी के ‘बयान बहादुर’ खामोश रहे|

कुल मिलाकर राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे गंभीर मसले पर एक बार पार्टी की किरकिरी देख चुके राहुल अब खासे सतर्क हैं और ऐसा कोई मौका नहीं देना चाहते जिससे कांग्रेस को विषम स्थिति का सामना करना पड़े|कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव पीएल पुनिया ने कहा है कि हमारी कार्रवाई से बौखलाकर पाकिस्तान सीजफायर का वायलेशन कर रहा है, ये बौखलाहट के अलावा कुछ नही हैं|वो अच्छी तरह जानते हैं कि हिंदुस्तान की सेना के आगे पाकिस्तान की कोई ताकत नहीं है|राहुल गांधी ने स्पष्ट कहा है कि सरकार पाकिस्तान के विषय पर जो कदम उठाएगी हम साथ हैं|

पुनिया ने कहा कि इस्लामिक बहुल देशों के संगठन  ओ आई सी में सुषमा जी को बुलाना, हिंदुस्तान के लिए सम्मान की बात है|अगर पाकिस्तान नहीं जाना चाहता तो ये उसकी सोच है| हिंदुस्तान का सम्मान बढ़ रहा है तो उससे पाकिस्तान कुंठित है| सेना लगातार काम कर रही है, शीघ्र पाकिस्तान को हकीकत का सामना करना पड़ेगा|

बहुजन समाज पार्टी की सुप्रीमो मायावती ने आतंकवाद के खिलाफ भारतीय वायुसेना की साहसिक कार्रवाई को सलाम व सम्मान किया है। मायावती ने वायुसेना की इस कार्रवाई की सराहना अपने अधिकृत ट्विटर एकाउंट पर ट्वीट करते हुए की है।मायावती ने कहा है कि जैश आतंकियों आदि के खिलाफ पीओके में घुसकर भारतीय वायुसेना के बहादुर जाबाजों की साहसिक कार्रवाई को सलाम व सम्मान है। काश हमारी सेना को फ्री हैंड भाजपा की सरकार पहले दे देती तो बेहतर होता।

उन्होंने अपने ट्विटर पर आगे कहा कि प्रधानमंत्री ने पुलवामा के जवानों की शहादत के बदले में कार्रवाई करने के लिए अब जो फ्री हैंड सेना को दिया है, अगर यह फैसला नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा पहले ले लिया गया होता तो पठानकोट, ऊरी व पुलवामा जैसी अति दुखद व अति-चिंतित करने वाली घटनाएं नहीं होती।

उधर, सीपीआई नेता अतुल अंजान ने कहा है कि पाकिस्तान में सेना हावी रहती है, लोकतंत्र नहीं चलता| इमरान खान को समझना चाहिए कि भारत और पाकिस्तान कि स्थिति कितनी अलग है| समझकर बात करें इमरान|

Arvind Kejriwal@ArvindKejriwalI salute the bravery of Indian Air Force pilots who have made us proud by striking terror targets in Pakistan

Akhilesh Yadav@yadavakhileshI salute the Indian Air Force and indeed all our Armed Forces. Congratulations

Tejashwi Yadav@yadavtejashwiWe salute bravery of our pilots and Air Force. We are blessed and proud of our forces. Jai Hind