भारतीय राजनयिक सैयद अकबरुद्दीन ने UN में पाकिस्तानी पत्रकार की बोलती कर दी बंद

392

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान और चीन ने कश्मीर मुद्दे पर भारत के खिलाफ एक बैठक बुलवाई थी. बैठक के खत्म होने के बाद जब भारत ने अपनी बात रखी तो हर कोई उससे सहमत था. इसकी कमान संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजनयिक सैयद अकबरुद्दीन ने संभाली. उन्होंने तर्कों से ही पाकिस्तान और चीन की बोलती बंद कर दी.

बैठक के बाद वहां मौजूद एक पाकिस्तानी पत्रकार ने भारतीय राजनीतिक से सवाल पूछने के लिए काफी उत्सुक था. उसने सोचा था कि उसके सवाल सईद को खामोश कर देंगेउसने सईद से पूछा की कश्मीर एक विवादित क्षेत्र है और हो सकता है कि आर्टिकल 370 आपका अंदरूनी मुद्दा हो’ उसके इतना बोलते ही सैयद ने कहा शुक्रिया ये बात एक्सेप्ट करने के लिए. फिर जैसे ही उसने दुबारा बात शुरू करने के लिए बोला कि “आर्टिकल 370 को” तब तक सैयद ने उससे बीच मे रोक कर याद दिलाया “भारतीय संविधान में” और भारत के द्वारा”
सैयद के इतना कहते ही साफ हो गया की भारत अपने अंदरूनी मामलों में दूसरे मुल्क की दखलंदाजी बर्दाश्त नहीं करता.

फिर एक और पाकिस्तानी पत्रकार ने कहा की कई अंतरराष्ट्रीय संतानों ने भारतीय सेना पर भारत अधिकृत कश्मीर में मानव अधिकारों का उलंघन करने का आरोप लगाया है. इस बात पर सैयद ने कहा कि UN तो इस बात को नहीं माना. और कोई भी अंतर सरकारी संस्था ने ऐसा कोई भी कोई भी…..आरोप नहीं लगाया है.
कश्मीर पर लिए गए फैसले से बाहरी लोगों को कोई मतलब नहीं होना चाहिए. उन्होंने कहा, “जेहाद के नाम पर पाकिस्तान हिंसा फैला रहा है.” “इस मसले पर बातचीत से पहले पाकिस्तान को आतंकवाद फैलाना बंद करना होगा.” उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर पर फैसला विकास के लिए किया गया है. हम धीरे-धीरे वहां से पाबंदी हटा रहे हैं. अकबरुद्दीन ने कहा कि हम अपनी नीति पर हमेशा की तरह कायम हैं.

तीसरा सवाल आया कि अब पाकिस्तान के साथ बात चीत कब शुरू करने की सोच रहे हैं. पाकिस्तान के लिए ये सवाल काफी गंभीर था लेकिन सैयद ने इसपर खास दिलचस्पी नहीं दिखाई और मज़ाकिया अंदाज़ में उन पत्रकारों के पास गए और हाथ मिला कर कहा कि मैं आपके पास आ कर ही इसकी शुरूआत कर देता हूँ. शुक्रिया.