गलवान घाटी में भारतीय सेना को मिली बड़ी सफलता, चीन के विरोध के बाद भी पूरा किया ये काम

2762

गलवान घाटी में चीन के साथ हिंसक झड़प में 20 सैनिकों को गंवाने के बाद भारत एक बहुत बड़ी सफलता मिली है. जिस गलवान घाटी में कब्जा जमाने के लिए चीन साजिशें कर रहा है उस गलवान घाटी में आज भारतीय सेना एक पुल का निर्माण कर लिया. इस पुल के निर्माण के बाद घाटी में भारतीय सैनिकों की पोजीशन बहुत मजबूत हो गई है. इस पुल के निर्माण के बाद अब सेना की गाड़ियां पुल के उस पार जा सकेंगी और सेना तक जरूरी मदद और बैकअप सही समय पर और जल्दी पहुँच सकेगी. चीन इस पुल के निर्माण में काफी अड़ंगा लगा रहा था. लेकिन उसकी तमाम कोशिशों के बावजूद भारतीय सेना ने इस पुल का निर्माण कर ही लिया.

इस पुल की लम्बाई 60 मीटर है. ये गलवान घाटी को दौलत बेग ओल्डी से जोड़ती है. चीन के कब्जे वाले अक्साई चिन के बेहद नजदीक दौलत बेग ओल्डी में भारत की सबसे आखिरी पोस्ट है. गलवान घाटी में पुल के निर्माण के बाद अब सेना के वाहन, टैंक और तोप सीधे दौलत बेग ओल्डी में भारत के आखिरी पोस्ट तक आसानी पहुँच सकेंगे. और दौलत बेग ओल्डी की सुरक्षा भी आसानी से हो सकेगी.

भारत पुले इलाके में अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए ऐसे ही कई और पुल और सड़कों का निर्माण कर रहा है. इसी वजह से चीन बौखलाया हुआ है. वो नहीं चाहता कि भारत सीमाई इलाकों में अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करे. जबकि चीन ने अपने कब्जे वाले इलाके में सड़कों का जाल बिछा रखा है. लेकिन भारत को ऐसा करने से रोकता है. भारत सरकार ने भी साफ कर दियाहाई कि चीन चाहे कितना भी चिल्ला ले भारत अपने इलाके में काम नहीं रोकेगा. भारत ने समाई इलाकों में सड़क निर्माण के लिए 1500 मजदूर लेह-लद्दाख में भेजे हैं .