युद्ध की धमकी के बीच भारत की तीनों सेनाओं ने पीएम मोदी को सौंपा चीन को सबक सिखाने का ब्लू प्रिंट

7867

लद्दाख में तनाव के बीच चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपनी सेना को युद्ध की तैयारी करने का आदेश दे दिया. लेकिन भारत भी खामोश बैठ कर तमाशा नहीं देख रहा. भारत ने तय कर लिया हाई कि अगर चीन कूटनीति और बातचीत की भाषा नहीं समझता तो उसे उसी भाषा में समझाया जाएगा जो भाषा वो समझता है. इस बार भारत चीन को ईंट का जवाब पत्थर से देने के मूड में है.

मंगलवार को PMO में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, NSA अजीत डोवाल, सीडीएस विपिन रावत और तीनों सेनाओं के प्रमुख से पीएम मोदी की मीटिंग हुई. करीब चार घंटों तक चली इस मीटिंग में ताजा हालातों पर चर्चा हुई और भारत की तैयारियों की समीक्षा की गई. बताया जा रहा है कि पीएम मोदी ने साफ़ कह दिया है कि LAC पर सैनिकों की संख्या बढाई जाए और सैनिक साजो सामान तेजी से सेना तक पहुंचाए जाएँ. सरकार ने साफ़ कर दिया है कि LAC पर भारत की तरफ हो रहे निर्माण कार्यों को किसी भी कीमत पर रोका नहीं जाएगा.

इस मीटिंग में सेनाओं की तरफ से लद्दाख में चीन के साथ बने हालात पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को विस्तृत रिपोर्ट दी गई और भारत की तैयारियों का ब्लू प्रिंट पीएम मोदी को सौंपा गया. इस ब्लू प्रिंट में चीन से निपटने के विकल्पं का भी जिक्र था. कुल मिला कर इस मीटिंग में ये तय हुआ कि किसी भी कीमत पर चीन के आगे झुकना नहीं है. उसकी हर चाल का मुंहतोड़ जवाब देना है.

चीन के टेंट के सामने भारत की सेना ने भी अपने टेंट गाड़ दिए हैं. LAC पर चीन ने न केवल अपने सैनिकों को बड़ी संख्या में सीमा के पास तैनात कर दिया है बल्कि ऊचाईं वाले इलाके में उड़ान भरने के अनुकूल लड़ाकू विमान जे-11 और जे 16एस को भी ऑपरेट करना शुरू कर दिया है. जवाब में भारत ने भी दौलत बेग एयर स्ट्रिप पर हलचल बढ़ा दी है.