भारत श्रीलंका टी20- ऐसे सुखाया गया गीला मैदान, कि बन गया मज़ाक

2621

रविवार के दिन खेला जाने वाला इंडिया और श्रीलंका के बीच पहला टी20 इंटरनेशनल मैच बारिश के चलते नही हो सका . मैच में टॉस भारत ने जीता और गेंदबाजी करने का फैसला लिया, लेकिन भारत मैदान पर गेंदबाजी करने उतरता उससे पहले ही बारिश ने अपना अंदाज़ दिखाना शुरू कर कर दिया था और एक भी गेंद फेंके बिना ही पूरा मैच रद्द कर दिया गया, मैच रद्द करने का कारण ये निकल कर सामने आ रहा है की पिच का एक हिस्सा गीला हो गया था जिसकी वजह से मैच नही हो सका. बरसापारा स्टेडियम पर मैदान को सूखा रखने के जो इंतजाम थे वे पर्याप्त नहीं थे, और एक बात ये भी सामने आई है की खराब स्तर के कवर्स जिससे पिच को ढका जाता है उसकी क्वालिटी काफी ख़राब थी. जिसकी वजह से मैदान सूखा रहा लेकिन उसकी पिच गीली हो गई, बीसीसीआई इस लापरवाही से खुश नहीं है.

अंतरराष्ट्रीय स्तर के क्रिकेट मैच में इस बात की उम्मीद कभी नहीं की जा सकती कि बारिश के दौरान पिच पर जो कवर डाले गए हों वो फटे हुए हों और उनसे पानी रिसकर पिच पर पहुंचे। इतना ही नहीं पिच को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर का उपयोग भी किया गया जो कि अंतरराष्ट्रीय मानको के हिसाब से सही नही है। लेकिन ये सभी नजारे रविवार शाम गुवाहाटी के बरसापारा स्टेडियम में देखने को मिला, जहां भारत और श्रीलंका के बीच खेला जाने वाला पहला T20 मैच बारिश और फिर पिच गीली होने के कारण रद्द कर दिया गया।

यह बात बीसीसीआई को पसंद नहीं आई है, और BCCI ने आनन्-फानन में मुख्य क्यूरेटर आशीष भौमिक की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि यह पहली बार है और इसने नए राज्य संघ के अनुभव की कलई खोल दी है. उन्होंने भौमिक और सीईओ राहुल जौहरी पर भी उंगली उठाई है। उन्होंने कहा, ‘इस तरह की चीजें होंगी क्योंकि लोढ़ा समिति की सिफारिशों को लागू करने के बाद सभी संघों के अधिकारियों के सामने इस तरह की चीजें आएंगी। किसी भी संघ के पास मौका नहीं है कि वो निरंतरता में चीजों को प्लान करे। आज के दौर में पूरी दुनिया में हित धारकों के लिए निरंतरता सबसे बड़ी चिंता का विषय है।’