लद्दाख में भारत ने तैनात किया बोफोर्स तोप, LAC के पास लड़ाकू विमान उतारने के लिए हवाई पट्टी का भी हो रहा निर्माण

7098

गलवान घाटी से चीन की सेना भले ही 2 किलोमीटर पीछे चली गई हो लेकिन पैंगोंग सो झील के फिंगर एरिया में चीनी सैनिक अभी भी जमे हुए हैं. चीन की मक्कारी से वाकिफ भारत भलीभांति जानता है कि इतनी आसानी से पीछे हट जाने के पीछे भी चीन की कोई गहरी हाल ही होगी. इसलिए सावधान भारत ने लद्दाख में बोफोर्स तोप की तैनाती कर दी है. बोफोर्स टॉप की काबिलियत से देश अच्छी तरह वाकिफ है. कारगिल जंग के दौरान बोफोर्स ने पाकिस्तानी सेना के छक्के छुड़ा दिए थे. चीन भले ही गलवान घाटी से पीछे हट गया हो लेकिन उसने पैंगोंग सो झील के किनारे अपने नियंत्रण वाले इलाके में तोप और भारी हथियार जमा कर रखे हैं. भारत ने करीब 60 बोफोर्स तोप लद्दाख में तैनात किया है.

आज तक की रिपोर्ट के मुताबिक भारत ने लद्दाख में बोफोर्स तोप तैनात करने के अलावा LAC के नजदीक एक हवाई पट्टी का निर्माण भी शुरू कर दिया है और बहुत ही तेजी से इस काम को किया जा रहा है. इस हवाई पट्टी का निर्माण अनंतनाग के नजदीक नेशनल हाइवे 44 पर किया जा रहा है ताकि इमरजेंसी में लड़ाकू विमानों को यहाँ उतारा जा सके. इस हवाई पट्टी की लम्बाई 3 किलोमीटर है और इसका निर्माण दो दिन पहले ही शुरू किया गया है. अभी देश में लॉकडाउन लागू है लेकिन इस हवाई पट्टी के महत्त्व को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने निर्माण से सम्बंधित सभी मंजूरी तुरंत जारी कर दी.

पिछले दिनों LAC के आसपास चीन के लड़ाकू विमान मंडराते देखे गए थे उसके बाद भारत ने भी लद्दाख में सुखोई लड़ाकू विमान तैनात कर दिया है और अब किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए अनंतनाग में हवाई पट्टी का निर्माण चीन की किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए भारत की तैयारियों की तरफ इशारा है. इसके अलावा सीमाई इलाके में सड़क निर्माण भी काफी तेजी से किया जा रहा है