कभी चीन से लेता था ये सामान, अब खुद भारत करेगा दुनिया में इस सामान का निर्यात

98

चीने के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस जिसने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया हैं. पूरी दुनिया इस वायरस से झूज रही हैं. अपना देश भारत भी आज इस महामारी से बाहर निकलने के लिए हर तरह की संभव कोशिश कर रहा हैं.चीन की इस हरकत को देखते हुए आज के समय में भारत ने देश में ही PPE किट और N-95 मास्क का उत्पादन शुरू कर दिया हैं.

पीएम मोदी ने देश के जनता से अपील की थी की हम सभी लोगों को आत्मनिर्भर बनना हैं तो कहीं न कहीं आज भारत ने PPE किट और N-95 मास्क बना कर ये संदेश दे दिया है की भारत भी आत्मनिर्भर बनने की तरफ कदम बढ़ा चूका हैं. कुछ वक़्त पहले तक देश के अंदर पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट किट के लिए चीन पर निर्भर था. वो आज खुद अपने ऊपर निर्भर हो चुका है.

इस समय की बात करें तो भारत PPE किट अपने देश के लिए भी बना रहा है और दूसरे देश को निर्यात करने की भी स्थिति में आ गया है. केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस म’हामा’री में अवसर को भांपते हुए पीपीई किट बनाने वाले उद्योग से कहा है कि वे इसके ग्लोबल सर्टिफिकेशन की तैयारी करें, ताकि इसका निर्यात किया जा सके.अधिकारियों ने कहा है कि पीपीई इंडस्ट्री ने निर्यात की इच्छा जताई है, जिसके लिए उन्हें इंटरनैशनल सर्टिफिकेशन की तैयारी करनी पड़ेगी. उसके बाद सरकार पीपीई किट की मांग को देखते हुए निर्यात की तैयारी करेगी. उन्होंने कहा, ‘उद्योग को इंटरनैशनल सर्टिफिकेशन की तैयारी करनी चाहिए और अन्य देशों के मानकों पर खरा उतरना चाहिए.’

पीपीई किट को लेकर मांग आना शुरू हो गया है. जिसको लेकर ऐपेरल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के चेयरमैन ए. शक्तिवेल ने बताया, ‘यूरोपीय संघ, ब्रिटेन तथा अमेरिका से मांग आ रही है. हमने इंटरनैशनल सर्टिफिकेशन के लिए केंद्र सरकार तथा इंडियन मिशन से मदद मांगी है.’ उसका कारण ये हा कि चीन से सभी देश नाराज चल रहे हैं और चीन की दी हुई सामान पर भी भरोसा कर पाना मुश्किल है. क्योकि चीन अपनी हरकत से बाज नही आ सकता है. इसलिए आज भारत के पास पीपीई किट की मांग आ रही है.