मसूद अज़हर पर शिकंजा कसने में भारत को मिली बड़ी बढ़त

302

पुलवामा आतंकी हमले के बाद आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अज़हर को सजा देने के लिए भारत अपनी पूरी कोशिश कर रहा है. इस सम्बन्ध में भारती सैन्य कार्यवाही पहले ही एयर स्ट्राइक द्वारा कर चुका है. अब भारत अपनी कूटनीति का सहारा ले रहा है ताकि पाकिस्तान को अलग थलग किया जा सके और पाकिस्तान मजबूर हो जाये मसूद अज़हर के ऊपर कार्यवाही करने में.

इस मामले से जुड़ी सबसे बड़ी खबर ये आ रही है कि भारत को मसूद अज़हर कि एक ऑडियो क्लिप हाथ लगी है. इस सबूत को भारत सरकार द्वारा बहुत अहम माना जा रहा है. दरअसल 14 फ़रवरी को हुए पुलवामा आतंकी हमले से महज़ 10 दिन पहले यानि 5 फ़रवरी को आतंकी मसूद अजहर ने जैश-ए-मोहम्मद के कैडरों को संबोधित करते हुए कहा था कि पाकिस्तान कश्मीर के बगैर पूरा नहीं है. इसी के दौरान आतंकी मसूद कश्मीर में मरे आतंकियों को श्रद्धांजलि देता है. आतंकी मसूद इसके आगे कहता है कि कश्मीर को और भारत में रह रहे मुसलमानों को भारत से आजादी बहुत जल्द मिलेगी. हालाकी 26 तारीख को भारतीय वायु सेना ने बालाकोट में आतंकी मसूद के कैडरों को आजादी दे दी थी.

इसके बाद मसूद भारत और अमेरिका कि तुलना करता है. ऑडियो मेसज में वो कहता है जैसे अमेरिका तालिबान से नेगिशियेट करने टेबल पर आया है उसी तरह भारत भी अगले कश्मीरी सॉलिडेरिटी डे के पहले नेगिशियेट करने खुद टेबल पर आएगा. आपको बताते चलें कि कश्मीर सॉलिडेरिटी डे यानि एक जुटता दिवस 5 फ़रवरी को होता है. वो आगे कहता है कि अगर सारे कश्मीरी मुसलमान भारत के खिलाफ एक जुट हो जायें तो कश्मीर को आज़ादी एक महीने में मिल जाएगी.

ये सबूत अहम इसलिए भी माना जा रहा है क्योंकि पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मोहम्मद कुरैशी ने एक इंटरव्यू में ये कन्फर्म किया कि मसूद पाकिस्तान में ही है और भारत अब यूनाइटेड नेशंस सिक्यूरिटी काउंसिल में पूरा जोर लगा रहा है ताकि मसूद अजहर के ऊपर प्रतिबंध लग सके और उसे यूनाइटेड नेशंस द्वारा आतंकवादी घोषित किया जा सके.

एक वरिष्ठ नार्थ ब्लाक के अधिकारी का कहना है कि इस ऑडियो क्लिप से ये साफ़ है कि पठानकोट, ऊरी और पुलवामा के मास्टरमाइंड भारत के खिलाफ साजिश करते हैं और हमले को अंजाम देते हैं.

ऑडियो में मसूद ने पुलवामा का तो ज़िक्र नहीं किया लेकिन भारत कि इंटेलिजेंस एजेंसीज मानती हैं कि कश्मीर कि एकजुटता के हवाला में मसूद ने एक बड़े हमले कि तरफ संकेत दिए थे. सूत्रों का ये भी कहना है कि इस क्लिप को सिक्यूरिटी एजेंसीज डिकोड नहीं कर सकी थी जिसकी वजह से पुलवामा हमले को नहीं रोका जा सका.
ये सभी सबूत भारत ने पाकिस्तान को अपने डोसियर में दिए हैं. इसके साथ डोसियर में करीब 40 आतंकी जो कि सारे पाकिस्तानी नागरिक हैं और जो हाल ही में उसी बालाकोट में ट्रेंड हुए थे जहाँ भारत ने एयर स्ट्राइक की थी, उनकी सारी डिटेल्स के साथ जैसे कि उनका नाम और पता सब भारत ने पाकिस्तान को सौंप दिए है. ये सभी 40 आतंकी 17 से 23 साल के बीच के हैं.

इसके साथ आतंकी मसूद का एक और ऑडियो जो भारत कि एजेंसीज के हाथ लगा है वो भी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. इस ऑडियो में अज़र अपने भतीजे उस्मान कि मौत के बाद जैश के कैडरों को कह रहा है कि वो भी उस्मान के रास्ते पर चलें. आपको बताते चलें कि उस्मान के बाप ने मसूद को 1999 में फ्लाइट हाई जैक करके जेल से बाहर निकला था. लेकिन उस्मान पिछले साल 30 अक्तूबर को सिक्यूरिटी फोर्सेज के साथ हुई एक मुठभेड़ में मारा गया था.अब आगे देखना ये होगा कि भारत कैसे ये सबूत पाकिस्तान के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय मंच पर रखता है जिससे पाकिस्तान को एक बार फिर सबक सिखाया जा सके.