कांग्रेस का दावा उन पर ही पड़ा उल्टा सेना ने कहा 2016 से पहले सर्जिकल स्ट्राइक का रिकॉर्ड नहीं

320

चुनाव का वक़्त है….सत्त्ताधारी पार्टी भाजपा पूरे चुनाव को राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर लड़ रही है…प्रधानमंत्री मोदी जोर शोर से एयर स्ट्राइक की बात कर रहे हैं और क्रेडिट ले रहे हैं …. तो विपक्षी पार्टी कांग्रेस कैसे पीछे रह सकती है … कांग्रेस ने दावा किया है कि उसकी सरकार के टाइम पर 6 सर्जिकल स्ट्राइक की गयी थी…

कांग्रेस के प्रवक्ता यानि राजीव शुक्ला ने दावा किया था..कि मनमोहन सरकार के टाइम 6 बार सर्जिकल स्ट्राइक की गयी है..और इसी तरह कपिल सिब्बल ने भी 2011 में हुए एक ऑपरेशन का जिक्र किया था, जिस  ऑपरेशन का नाम ऑपरेशन जिंजर बताया जा रहा था..कि इस नाम से सर्जिकल स्ट्राइक हुए है. हालांकि भाजपा ने कांग्रेस के इस दावे को खारिज कर दिया था।

अब UPA सरकार के कार्यकर्ताओं के सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर जम्मू के रोहित चौधरी के द्वारा दायर एक आरटीआई यानि राईट तो इन्फॉर्म दर्ज की गयी .जिसमें 2004 से 2014 के बीच हुयी सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में पूछा गया और सारी जानकारी मांगी गयी..कि कितनी सर्जिकल स्ट्राइक हुई और इनमे से कितनी सफल रही और कितनी नहीं..

पर RTI के जवाब में जो आया है वो आप भी सुनकर चौंक जायेंगे. दरअसल RIT के जवाब में डिफेन्स मिनिस्टरी ने DGMO के माध्यम से कहा है कि उनके पास सिर्फ 29 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा पर सेना द्वारा की गई बस एक सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में पूरा डाटा हैं,जो उरी हमले के बदले में की गयी थी..ये बात हम आपको इंडिया टुडे की इस रिपोर्ट के अधार पर बता रहे है..

वैसे इस पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने 2 मई को रोहित चौधरी की इसी आरटीआई की चर्चा करते हुए एक ट्वीट किया था ,और अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा था कि , अभी तक कांग्रेस सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांग रही थी. अब वे कह रहे हैं कि उन्होंने भी 6 सर्जिकल स्ट्राइक की थीं. पर एक आईटीआई में खुलासा हुआ है कि पाकिस्तान पर पहली सर्जिकल स्ट्राइक सितंबर 2016 में हुई थी. इससे पहले कभी ऐसा हमला नहीं किया गया था.

जब प्रकाश जावेडकर से आरटीआई के बारे सवाल पूछा गया तो मंगलवार को आरटीआई पर सेना के जवाब को सार्वजनिक किया गया और कांग्रेस के दावों की धज्जियाँ उड़ा दी गई .

अब सवाल ये उठता है कि अगर वाकई में सेना ने UPA के वक़्त सर्जिकल स्ट्राइक की थी तो ये बात देश को पता क्यों नहीं चला? दुश्मन देश या आतंकियों के खिलाफ एक नहीं दो नहीं पुरे 6 सर्जिकल स्ट्राइककी गयी.. पर ना तो कोई सबूत दिया गया .. ना ही देश के लोगों को कोई जानकारी दी गई और कांग्रेस चाहती है कि देश उसके दावे पर यकीन कर ले . कांग्रेस के दावों की हवा तत्कालीन सेनाध्यक्ष जनरल वी. के . सिंह भी निकाल चुके हैं . वी . के. सिंह ने कहा था कि सेनाध्यक्ष तो मैं था तो फिर मेरी जानकारी के बिना तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने किसकी मदद से सर्जिकल स्ट्राइक कर ली ….

जब कांग्रेस अभी तक ये कहती आ रही थी कि सेना के शौर्य का राजनीतिक लाभ नहीं लिया जाना चाहिए भाजपा इस मुद्दे पर अपना वोट बैंक बना रही है ,तो फिर अब चुनावों के आखिरी दौर में वो अपनी सरकार के द्वारा किये गए तथाकथित सर्जिकल स्ट्राइक का क्रेडिट क्यों लेना चाह रही है .