संसद में पीएम मोदी की इन बातों से क्यो आग बबूला हो गई कांग्रेस

304

पीएम मोदी बढ़िया बोलते है इस बात को सभी जानते है और तो और विपक्षी भी उनकी इस वाक्पटुता की खूब तारीफ करते है। लेकिन इस बार लोकसभा में जब पीएम बोले तो विपक्षियों में अफरा तफरी सी मच गई। पीएम ने हर उस मुद्दे पर विपक्षियों को आड़े हाथों लिया जिसपर वो लगातार सरकार से सवाल पूछता आया है। मोदी फुल फॉर्म में थे और उनके भाषण के दौरान सांसद बार बार मेज थपथपाते नजर आ रहे थे और कांग्रेस आग बबूला होती दिखाई दे रही थी।
पीएम मोदी ने कैसे सबकी क्लास लगाई,आइए बताते चलते है।

लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद देने के लिए उठे मोदी ने कांग्रेस समेत सारे विपक्ष पर आरोप लगाते हुए कहा कि विपक्ष का काम विरोध करना है लेकिन लंदन में झूठी प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित करके देश की धू धू कराने जैसे काम बिल्कुल सही नही है।(बाइट)
देश में तैयार हो रहे महागठबन्धन को महामिलावट करार देते हुए मोदी ने कहा कि महामिलावट का हाल कोलकाता में देख ही चुके है लेकिन केरल में ये लोग एक दूसरे का मुँह नही देख पाएंगे। पीएम ने कहा कि देश मे 30 साल तक महामिलावट की स्थिति देखी है।


सरकारी संस्थाओं को बर्बाद करने के विपक्ष के आरोपो पर मोदी ने कहा कि उल्टा चोर कोतवाल को डांटे,देश मे कांग्रेस ने आपातकाल लगाया,सेना का अपमान किया,सेनाध्यक्ष को गुंडा तक कह दिया, लेकिन इसके बावजूद भी कहा जाता है कि मोदी सरकारी संस्थाओं को बर्बाद कर रहा है।


ईवीएम पर विपक्ष के सवालों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि भारत का चुनाव आयोग दुनिया भर में गौरव का केंद्र है लेकिन विपक्ष अपनी विफलता का ठीकरा ईवीएम पर ठोककर चुनाव आयोग को कठघरे में खड़ा कर देती है। उन्होंने सवाल पूछने के अंदाज में कहा कि आख़िर विपक्ष इतना डरा हुआ क्यो है?? पहले तो महाभियोग के नाम पर पूरी व्यवस्था को हिलाने की कोशिशें की गई और सवाल मोदी सरकार पर उठ रहे है। ये सब भी पीएम मोदी ने कहा था।

पीएम मोदी यही नही रुके उन्होंने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने बार बार आर्टिकल 356 का दुरुपयोग किया। चुनी हुई सरकारों को बर्खास्त करने का काम किया,इंदिरा गांधी ने 50 बार ऐसा कदम उठाया। बेहद आक्रामक अंदाज़ में बैटिंग कर रहे मोदी ने कहा कि 1959 में नेहरू जब पीएम थे और इंदिरा गांधी कॉंग्रेस की अध्यक्ष थी तब करेला की सरकार को बर्खास्त कर दिया,मंत्रिमंडल के फैसले प्रेस कॉन्फ्रेंस में फाड़ दिए गए इसलिए मोदी सरकार पर उंगली उठाने से पहले विपक्ष को पता होना चहिए की चार उंगली उसकी तरफ ही होती है।

पूरे भाषण में पीएम के निशाने पर कांग्रेस के नेता मल्लिगार्जुन खड़गे रहे,उन्होंने कहा कि खड़गे डिसेंट व्यक्ति है लेकिन पता नही क्या मजबूरी है कि वो हर बार डिसेंट ही बने हुए है। 
अपने आपको गरीब बताते हुए मोदीकहा कि एक गरीब इंसान जिसने दिल्ली को देखा तक नही था,उसने जब दिल्ली की सत्ता में लम्बे समय से बैठे लोगों को चुनौती दी तो ये बात कांग्रेस के लोगो के दिमाग से नही जा पाई क्योकि उनको सत्ता का नशा चढ़ चुका था। 


तो ये थे पीएम मोदी के भाषण के वो मैंन पॉइंट जिसके जरिये उन्होंने विपक्ष के हर उस मुद्दे पर काफी तसल्ली से जवाब दिया। उनके इस भाषण से बीजेपी समर्थक खुशी से फुले नही समा रहे,उनका कहना है कि पीएम ने कांग्रेस की इज्जत को तार तार करके रख दिया है। लोग दबाके उनकी स्पीच को शेयर भी कर रहे रहे है। इस भाषण के बाद फिलहाल विपक्षी अहसज महसूस कर रहे है और इस चुनावी साल में  आत्मविश्वास से लबरेज पीएम नरेंद्र मोदी की काट ढूंढने में लग गए है। देखना दिलचस्प होगा पीएम मोदी को सियासी मात देने के लिए अब विपक्षी कौनसी काट ढूंढ़के लाते है।