छोटी बच्ची से दुष्कर्म के बाद शिवराज सरकार ने दिया था घर, कांग्रेस सरकार ने दिया खाली करने का आदेश

538

कक्षा 3 में पढ़ने वाली एक छोटी बच्ची का..दो लोगों ने स्कूल के पास से किडनैप किया .. और फिर उसका रेप और उसका गला काटकर उसे मरती हालत में छोड़ दिया और भाग निकले…उसके बाद  स्थानीय लोगों को बच्ची ख़ून से लथपथ झाड़ियों में पड़ी मिली थी.. हॉस्पिटल में 5 महीने इलाज के बाद वह घर वापस लौट सकी थी…पर वो घर भी अब उससे छिनने वाला है .. बलात्कार का शिकार हुई 8 साल की बच्ची को मुआवजे के तौर पर मिले घर को खाली करने के निर्देश जारी किए गए हैं…

इंदौर विकास प्राधिकरण (आईडीए) ने बुधवार को रेप पीड़िता बच्ची को दिए हुए घर को खाली करने का निर्देश दिया है… बता दें कि भाजपा सरकार और शिवराज सिंह के कार्यकाल में बच्ची को शहर में एक घर और दुकान दी की गई थी…इस पर आईडीए के एक अधिकारी एनएल महाजन का कहना है कि पिछली सरकार द्वारा की गई घोषणा के बाद घर दिया गया था, लेकिन अभी इसको लेकर मौजूदा सरकार ने कोई आदेश जारी नहीं किया है.. इसलिए घर खाली करना पड़ेगा… उन्होंने कहा कि हमें औपचारिक आदेश के बिना किसी को भी घर सौंपने का कोई अधिकार नहीं है..

The Indian Express

उन्होंने बताया कि परिवार घर में नहीं रह रहा है बल्कि घर को किराए पर दिया गया है ताकि कुछ पैसा मिल सके.. ख़ुद के लिए उन्होंने मंदिर के पास घर किराए पर लिया है, जहाँ बच्ची के पिता को दुकान मिली है..इस पर पीड़िता के पिता ने कहा कि राज्य में कॉन्ग्रेस की सरकार आई तो लोगों ने कहा कि सरकार बदल गई है, अब घर छोड़ना पड़ेगा क्योंकि पुरानी सरकार ने घर के लिए कोई आधिकारिक आदेश जारी नहीं किया था। वह कहते हैं कि लोगों की बात सच हो गई, लगता है हमें वापस घर छोड़ना होगा..हमें समझ नहीं आ रहा है कि क्या किया जाए..

The Indian Express

घर खाली करने की बात सामने आने के बाद बच्ची के पिता ने कहा कि उन्हें डर है कि अगले शैक्षणिक सत्र में उनके बच्चों को स्कूल से ना निकाल दिया जाए.. क्यों की मैं इतनी ज्यादा स्कूल की फीस नहीं भर सकता..खैर हम तो यही कहेंगे उस बच्ची के साथ जो घटना हुए उसको भरपाई तो कोई नहीं कर सकता ऐसे में उसको दिया घर नहीं छिनना चाहिए ..क्या पता उसके माता पिता ने वो घर अपने बच्चो की जरूरतों को पूरा करने के लिए रेंट पर लगाकर दुकान के पास एक छोटा घर लिया हो .. सरकार कामनाथ जी की है ..वो चाहे तो अब उस बच्ची को वो घर भी अधिकारिक तौर पर दे सकते है..इससे उसके साथ हुई उस घटना की भरपाई तो पूरी नहीं होगी पर क्या पता कुछ छोटी जरूरतें पूरी हो जाये …