अपने पहले ही भाषण में पीएम मोदी ने विपक्ष को हिला डाला

386

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा और राज्यसभा में जवाब दिया.. लोकसभा में मोदी ने कांग्रेस पर प्रहार किया.. शाहबानों, तीन तलाक, मेक इन इंडिया, इमरजेंसी, सिस्टम सब पर बोले.. और जमकर बोले.. इतना ही नही प्रधानमंत्री मोदी के इस भाषण से उनका एजेंडा भी साफ़ हो गया.. वहीँ राज्य सभा में पीएम मोदी ने मॉब लिंचिंग, चमकी बुखार, चुनाव और विपक्ष द्वारा लगाए गये तमाम आरोपों पर बोले. आइये हम आपको प्रधानमंत्री मोदी द्वारा सदन में दिए गये इस भाषण की कुछ मुख्य बातें आपको बताते हैं.
सबसे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि “राष्ट्रपति जी का अभिभाषण, देश के नागरिकों ने जिस आशा-आकांक्षाओं के साथ हमें इस सदन में भेजा है, उसकी एक तरह से प्रतिध्वनि है।मैं इस चर्चा को सार्थक बनाने के लिए इसमें भाग लेने वाले सभी सांसदों का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं।”

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने मुस्लिमों को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोला उन्होंने कहा कि जब देश में शाह बानों वाले मामले पर बहस चल रही थी तब कांग्रेस के एक मंत्री ने कथित तौर पर टीवी इंटरव्यू में कहा कि कुछ कांग्रेस के मंत्रियों का यह विचार था कि ‘मुसलमानों का उत्थान कांग्रेस की जिम्मेदारी नहीं है, अगर मुसलमान गटर मे पड़े रहना चाहते हैं तो उन्हें पड़े रहने दीजिए’। हम महिला सशक्तीकरण के लिए एक विधेयक लाए हैं, कृपया इसे धर्म से न जोड़ें। मोदी का इशारा तीन तलाक के बिल पर था. इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने इमरजेंसी का भी जिक्र किया…इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस नेताओं के उन बयानों पर जवाब दिया जिसपर कहा जाता है कि अगर राहुल और सोनिया भ्रष्ट है तो उन्हें जेल में डालो.. इस पर पीएम मोदी ने कहा कि ये इमरजेंसी नहीं है कि किसी को भी जेल में डाल दिया जाए, ये लोकतंत्र है। ये काम न्यायपालिका है। हम कानून से चलने वाले लोग हैं और किसी को जमानत मिलती है तो वो इंजॉय करे। हम बदले की भावना से काम नहीं करेंगे।


इसके बाद मोदी ने कहा कि मेक इन इंडिया का मजाक उड़कार कुछ लोगों को भले ही रात को अच्छी नींद आ जाए लेकिन इससे देश का भला तो नहीं हो पाएगा। मेक इन इंडिया का आगे बढ़ाना हमारी जिम्मेदारी है। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मुझे कभी लगता है कि अगर 125 करोड़ देशवासियों के सपनों को अगर मुझे जीना है, तो मुझे छोटा सोचने का हक़ भी नहीं है, और इसलिए जब हौंसला बना लिया ऊंची उड़ान का, तो देखना फिजूल है कद आसमान का। इसके बाद प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर बड़ा प्रहार किया उन्होंने कहा कि मैं चुनौती देता हूं साल 2004 से पहले इस देश में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी। 2004 से 2014 तक शासन में बैठे लोगों ने अधिकृत कार्यक्रम में एकबार भी अटल जी के काम की तारीफ की हो तो जरूर इस पटल पर रखें। इतना ही नहीं नरसिम्हा राव की सरकार की तारीफ की हो तो जरूर रखें। इतना ही नहीं यहाँ एक बार भी मनमोहन सिंह जी की सरकार का जिक्र तक नहीं किया, अगर किया हो तो बताएं।” यहाँ प्रधानमंत्री मोदी कह रहे थे कि कांग्रेस कभी किसी के काम की तारीफ नही कर सकती, उसने अपनी ही सरकार जो 2004 से 2014 तक देश में थी उसकी भी तारीफ नही कर सकी.. अगर की है तो हमारे सामने रखे… ये सब बातें मोदी लोकसभा में बोले


इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी राज्यसभा मॉब लिंचिंग, चमकी बुखार जैसे गर्म मुद्दों पर अपनी बात रखी.. यहाँ पीएम मोदी ने कहा कि यह हमारे लिए शर्म और दुख की बात है और इसे हम सभी को गंभीरता से लेना होगा. पीएम मोदी ने कहा पूर्वी उत्तर प्रदेश में इन दिनों अच्छी स्थिति नजर आ रही है. उन्होंने कहा कि संकट से बाहर निकालने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री के संपर्क में हैं और हमारे स्वास्थ्य मंत्री भी इस ओर ध्यान दे रहे हैं. आयुष्मान योजना का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत की ताकत उस सांसद को मालूम है जिसने पीएम कोष से गरीब की मदद के लिए कभी चिट्ठी लिखी हो. आज एक भी चिट्ठी पेंडिंग नहीं है क्योंकि उसे इस योजना से इलाज मिल रहा है. एक बीमारी से 20 साल की मेहनत चली जाती थी, क्रेडिट मोदी ले जाएगा इसकी चिंता मत करो 2024 के लिए नई योजना लेकर आएंगे.
इसके बाद झारखंड में हुए मॉब लिंचिंग पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि झारखंड को मॉब लिंचिंग का अड्डा बताया गया, युवक की हत्या का दुख मुझे भी है और सबको होना चाहिए. दोषियों को सजा होनी चाहिए, लेकिन इसके बिनाह पर एक राज्य को दोषी बताना क्या हमें शोभा देता है फिर तो हमें वहां अच्छा करने वाले लोग ही नहीं मिलेंगे, सबको कटघरे में लाकर राजनीति तो कर लेंगे लेकिन हालात नहीं सुधर पाएंगे.


पीएम मोदी ने कहा कि न्यू इंडिया का भी विरोध किया जा रहा है, कुछ गलत हो सकता है लेकिन सब कुछ गलत बता देना कहां तक ठीक है. उन्होंने कहा कि ओल्ड इंडिया की मांग हो रही थी, क्यों भाई. ओल्ड इंडिया में कैबिनेट के फैसले को फाड़ दिया गया. जहां हर तरफ घोटाले हुए ऐसा ओल्ड इंडिया, गैस कनेक्शन के लिए लाइन लगानी पड़े ऐसा ओल्ड इंडिया, पासपोर्ट के लिए महीनों तक का इंतजार वाला ओल्ड इंडिया चाहिए. इंस्पेक्टर राज का ओल्ड इंडिया चाहिए.


इसके बाद पीएम मोदी ने कहा कि यह तक कहा गया कि मीडिया के कारण हम चुनाव जीत गए क्या मीडिया बिकाऊ है. जिन राज्यों में हमारी सरकार नहीं है उनमें भी यही लागू होगा क्या. तमिलनाडु और केरल में भी यही लागू होगा क्या. 10 लाख पोलिंग स्टेशन, 40 लाख ईवीएम, 8 हजार से ज्यादा उम्मीदवार, 650 राजनीतिक दल कितना बड़ा रूप था और दुनिया के लिए यह चकित करने वाली बात है और हमारे लिए गर्व की बात है.
पीएम मोदी ने राज्यसभा में कांग्रेस के बयानों पर जवाब देते हुए कहा कि चुनाव में देश हार गया, लोकतंत्र हार गया तो क्या वायनाड और रायबरेली में हिन्दुस्तान हार गया, क्या अमेठी में हिन्दुस्तान हार गया. कांग्रेस हारी तो देश हार गया ये कौन का तर्क है, कांग्रेस का मतलब देश नहीं, अहंकार की एक सीमा होती है.
चमकी बुखार और झारखंड में हुए बवाल पर भी पीएम मोदी ने जवाब दिया है. तो ये पीएम मोदी को वो बातें जो उन्होंने राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद देने के दौरान कहीं………………..