हाथरस कां’ड में गांव से छुपकर आए लड़के ने लगाए पुलिस और प्रशासन पर गम्भीर आरोप, कहा डीएम ने…

671

तारीखे बदल जायेंगी, दिन बदल जायेंगे,लेकिन लड़कियों पर होने वाले ये अ’त्या’चा’र कब बंद होंगे पता नही. अपने देश में आये दिन रोज़ एक नि’र्भ’या अपने लिए इंसाफ मांगती हुई नज़र आती है. इंसाफ तो मिलता है लेकिन बहुत देर से और वो द’रिं’दे बे’खौ’फ घूमा करते हैं. दिल्ली के अंदर नि’र्भ’या केस हुआ था. जिसका इंसाफ होते होते कई साल गुज़र गये थे. लेकिन उत्तर प्रदेश के हाथरस में जो घ’ट’ना घटी है. उस पर राज्य सरकार से लेकर पुलिस प्रशासन सबकी पोल खुलती हुई दिख रही है.

हाथरस में हुए केस पर पुलिस और प्रशासन की का’र्य’प्र’णा’ली पर लगातार सवाल उठ रहे हैं. पीड़िता के गांव में घे’रा’बं’दी की गई है. किसी को भी गांव से बाहर जाने और बाहर से किसी को गांव में जाने की इजाज़त नहीं दी गई है. आज की बात करें तो गांव का एक लड़का छिपकर मीडिया से बात करने की कोशिश की थी. लेकिन पुलिस ने उसको वहां से भगा दिया था. लड़के ने कहा है कि ‘पीड़िता के घरवाले मीडिया से बात करना चाहते हैं लेकिन उन्हें घर में कै’द कर दिया गया है.’

खेतों से भागते हुए मीडिया के पास आए एक लड़के ने आगे कहा कि ‘उसे घरवालों ने भेजा है. उसे कहा गया है कि मीडिया वालों को बुला लाओ. घरवाले कुछ बात करना चाहते हैं, लेकिन उन्हें निकलने नहीं दिया जा रहा है. क्योंकि पुलिस का चारोतरफ प’ह’रा है. लड़के ने डीएम पर भी आ’रो’प लगाया है उसने बताया है कि डीएम आए थे. उन्होंने ताऊ की छा’ती पर लात मारी. वह बे’हो’श हो गए. उनकी तबी’यत खराब है. मैं छिपकर खेतों से यहां तक आया हूं.’