पकिस्तान ने मानी हार, कहा दुनिया में सबसे अलग पड़ा हुआ है

1835

जम्मू कश्मीर से 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान ने हर देश से मदद मांगी लेकिन उसका साथ देने के लिए कोई भी देश तेयार नहीं है. अमेरिका,रूस के साथ लगभग सभी देशों ने इस मुद्दे को भारत का आंतरिक मामला बताया है. पूरी दुनिया में पकिस्तान की धज्जियां उड़ चुकी है. इसके चलते पाकिस्तान के पीएम इमरान खान अब अपने ही मुल्क में घिर गए है. पाकिस्तान की प्रमुख विपक्षी दल पाकिस्तानी पीपुल्स पार्टी ने इमरान खान की पार्टी पर निशाना साधा है. पाकिस्तानी पीपुल्स पार्टी ने कहा कि इमरान सरकार की गलत नीतियों कि वजह से और भारत की अच्छी कूटनीतिक सफलताओं के कारण ही आज पाकिस्तान पूरी दुनिया में अकेला पड़ गया है.

पीपीपी ने इमरान खान की सरकार पाकिस्तान तहरीके इंसाफ के एक साल पूरा होने के बाद एक श्वेत पत्र जारी किया था. एक साल पूरे होने पर इमरान खान सरकार ने इसे बदलता का एक साल बताया है जबिक पीपीपी ने इसे इस साल को तबाही का एक साल बता दिया है. पीपीपी ने अपने पत्र में कहा है कि पाकिस्तान बीते साल में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बहुत कमजोर हो गया है. पीपीपी ने जो श्वेत पत्र जारी किया वो 112 पन्नों का है. पीपीपी सरकार ने कहा कि एक साल में इमरान सरकार ने अपने वादों और ख़राब नीतियों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

पीपीपी ने ये आरोप भी लगाया कि इमरान खान सरकार ने बोला था कि वो कर्ज लेने क लिए आईएमएफ नहीं जाएगा पर ऐसा कुछ नही हुआ, इमरान खान ने अपने वादे को तोडा और आईएमएफ से कर्ज लिया. उन्होंने कहा कि इसका नुक्सान देश की आम जनता को झेलना पड़ रहा है. वहा की गरीबी और महंगाई बहुत ज्यादा बढ़ गई है. सरकार ने पाकिस्तानी मीडिया पर भी कई तरीके की रोक लगा दी है. पीपीपी ने ये कहा कि इमरान खान सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से नष्ट कर दिया है. और राजनितिक स्तर पर बात करे तो पकिस्तान ने खुद स्वीकार किया कि वो दुनिया में सबसे अलग पड़ा हुआ है.