अगर लागू हुआ एनआरसी तो खुद को देश का नागरिक साबित करने के लिए तैयार रखें ये दस्तावेज

4553

लोकसभा में नागरिकता संशोधन बिल पर बहस के दौरान गृहमंत्री अमित शाह ने कहा था कि मान कर चलिए कि एनआरसी आने वाला है. उनके कहने का आशय ये था कि असं के बाद एनआरसी पूरे देश में लागू होगी और जो अवैध घुसपैठिये देश के अलग अलग हिस्सों में रह रहे हैं और देश के लिए खतरा बने हुए हैं, उन्हें देश से बाहर जाना होगा.

अब एनआरसी पूरे देश में कब लागू होगा इसकी कोई जानकारी फिलहाल तो नहीं है लेकिन भाजपा के घोषणापत्र में घुसपैठियों को देश से बाहर करने का मुद्दा प्रमुखता से था तो देर सवेर केंद्र सरकार इनपर कदम आगे बढ़ाएगी ही. जब देश में एनआरसी लागू होगा तो हर किसी को अपनी नागरिकता सिद्ध करने के लिए कुछ डाक्यूमेंट्स की जरूरत पड़ेगी. ये वो डोक्युमेन्ट्स हैं जो इस देश के ज्यादातर नागरिकों के पास पहले से ही मौजूद हैं क्योंकि जो इस देश के नागरिक हैं वो अपना हर डॉक्युमेंट सालों पहले ही तैयार करा के रखते हैं लेकिन जो इस देश में अवैध रूप से रह रहे हैं उन्हें दिक्कत आने वाली है.

तो आइये आपको बताते हैं कि किसी किस डॉक्युमेंट की जरूरत पड़ेगी आपको अपनी नागरिकता सिद्ध करने के लिए अगर देश में एनआरसी लागू हुआ तो.

सबसे पहले तो आप ये जान लें कि आपके पास जो भी डॉक्युमेंट होंगे वो 1951 से पहले के होने चाहिए. अब अगर आप ये सोच कर परेशान हो रहे हैं कि आपका जन्म 90 के दशक में हुआ है तो 1951 से पहले का दस्तावेज कहा से आएगा? तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है. ऐसी स्थिति में आपके पूर्वजों का डॉक्युमेंट काम आएगा.

असम में एनआरसी लागू हुआ तो डॉक्युमेंट जमा करने के लिए दो लिस्ट बनायीं गई. लिस्ट A और लिस्ट B. लिस्ट A में लोगों को अपने डॉक्युमेंट जमा करने हैं और लिस्ट B में अपने पूर्वजों के डॉक्युमेंट जमा करने हैं.

लिस्ट A के अनुसार 25 मार्च 1971 तक के चुनावी हिस्सेदारी वाली आईडी (वोटर आईकार्ड), 1951 का एनआरसी, रेजिडेंट सर्टिफिकेट, किरायेदारी के सर्टिफिकेट, बैंक दस्तावेज, एलआईसी दस्तावेज, पासपोर्ट, एजुकेशन सर्टिफिकेट, परमानेंट आवास प्रमाणपत्र, रिफ्यूजी रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जमा करने होंगे.

लिस्ट B में जो पूर्वजों के डॉक्युमेंट जमा करने हैं वो इस प्रकार हैं: बर्थ सर्टिफिकेट, जमीन सम्बन्धी कागजात, राशन कार्ड, वोटर लिस्ट में नाम, बैंक सर्टिफिकेट, पोस्ट ऑफिस सर्टिफिकेट, एजुकेशनल सर्टिफिकेट.

तो अगर आपके पास ये सब डॉक्युमेंट है तो आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है. वैसे ही देश के असल नागरिकों के पास ये कागजात पीढ़ी दर पीढ़ी ट्रांसफर होते रहते हैं. डरने की जरूरत उन्हें हैं जो अवैध रूप से देश में रह रहे हैं.