सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिली 5 एकड़ जमीन को लेकर बोले इकबाल अंसारी कि यहाँ म’स्जिद नहीं बल्कि…

565

लोकसभा में सत्र के दौरान देश के प्रधानमंत्री ने एक ऐसा ऐलान किया जिससे हर तरफ ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी. एक तरफ दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारियां में सभी व्यस्त थे वहीं दूसरी ओर पीएम मोदी ने अयोध्या में बनने वाले राम मंदिर के निर्माण के लिए ट्रस्ट की घोषणा कर दी. अब उनके इस ऐलान के बाद जल्द ही मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो सकेगा.

जानकारी के लिए बता दें इस ट्रस्ट का नाम श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र रखा गया. राम जन्म भूमि न्यास ने कहा है कि मंदिर निर्माण का कार्य इस साल रामनवमी के शुरू हो सकता है. वहीं मोदी सरकार ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को दी जाने वाली 5 एकड़ जमीन की बात कही. योगी सरकार सुप्रीम कोर्ट के आग्रह के बाद सुनी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन देने का भी फैसला कर लिया.

बाबरी मामले में मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने सुन्नी वक्फ बोर्ड को दी जाने वाली जमीन को लेकर अपनी सलाह प्रस्तुत की है. इक़बाल अंसारी ने कहा है कि सुन्नी वक्फ बोर्ड को दी जाने वाली जमीन पर मस्जिद की जगह एक धर्मशाला बनाई जाए जिसका अयोध्या आने वाले श्रद्धालु उपयोग कर सकें, साथ ही इसमें निशुल्क भोजन और आवास की सुविधा हो.

गौरतलब है कि इक़बाल अंसारी मुस्लिम पक्ष की ओर के मुख्य पक्षकार हाशिम अंसारी के बेटे हैं. उन्होंने 5 एकड़ जमीन के बारे में अपनी सलाह दी है. वहीं विश्व हिंदू परिषद ने कहा है कि मंदिर निर्माण के लिए 60 प्रतिशत काम पूरा हो गया है. साल 2024-25 में मंदिर बनकर तैयार हो जायेगा. सूत्रों के अनुसार बताया गया है कि विहिप के मॉडल के अनुसार ही मंदिर का निर्माण कार्य पूरा होगा.