क्या विजय चौक पर फांसी लगाएंगे पीएम मोदी: खड़गे

283

राजनीति में बयान बाज़ी अब कोई बड़ी बात नहीं रही है लेकिन बयान बाज़ी करने में नेता PM पद की गरिमा भी भूलते जा रहे है,और आरोप प्रत्यारोप के चक्कर में ऐसे शब्द बोल देते है जिससे लगता है कि सत्ता का खुमार किस कदर इनके सर चढा हुआ है,अब नेताओं की बदजुबानी जंग में एक और नाम जुड गया है,और वो नाम है कांग्रेस के कदावर नेता मलिका मल्लिकार्जुन खड़गे का .
दरअसल रविवार को कर्नाटक के कलबुर्गी में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए वो बोल पड़े कि नरेंद्र मोदी हर जगह जहां भी वो जाते हैं बस यही कहते हैं कि कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में 40 सीटें भी नहीं मिलेंगी। क्या आपमें से कोई भी इस बात को मानता है…? यदि हमें यानि कांग्रेस को 40 से ज्यादा सीटें मिल गईं तो क्या मोदी दिल्ली के विजय चौक में फांसी लगा लेंगे…?
PM मोदी पर बयान देने के बाद भाजपा ने तो उन्हें बुरी तरह घेरा ही है, पर उनका ये बयान कांग्रेस पर भी भरी पढ़ सकता है.अब आप सोच रहे होने कैसे ? अगर आप चुनावी समीकरण समझते है तो आपके लिए ये बात समझना ज्यादा मुश्किल नहीं होगी ,लोकसभा में कुल 543 सीटें है जिनमे से जीत के लिए 272 की जरुरत पढती है ,पर यहाँ तो कांग्रेस के दिग्गज नेता सिर्फ 40 सीट का ही आंकड़ा पार करने की बात कर रहे है,तो वही दूसरी भाजपा सरकार है जो इस नारे के साथ आगे बढ़ रही है कि अबकी बार 400 पार ,हर जगह मोदी और अमित शाह रैलीयों में इसी नारे को लगा रहे है..और दुसरे तरफ की बात करे तो कांग्रेस अपने दम पर क्या सिर्फ 40 या 44 सीट जितने का दावा कर मोदी को फांसी लगाने के लिए कह रही है..
वैसे आपको याद हो तो 2014 में भी कांग्रेस को 44 सीटें मिली थी और भाजपा को 282 सीटें मिली थी ,और मना जा रहा था कि ये आकंडा भाजपा मोदी लहर के वजह से ही पार कर पाया था..तो क्या इसी बोखलाहट की वजह से मलिकाअर्जुन खड़गे pm पद की भी गरिमा भूल कर ये बोल गये.
हालंकि हम ये नहीं कह सकते कि उनकी बोलते हुए जुबान फिसल गयी होगी ,कारण ये है क्यों की वो पहले भी PM मोदी पर टिप्पड़ी कर चुके है , उन्होंने ने मुंबई में एक कार्यक्रम में कहा था, ‘पीएम मोदी इस देश में वैसी ही तानाशाही लाने की कोशिश कर रहे हैं जैसी तानाशाही हिटलर ने जर्मनी में की थी..
लेकिन कितनी अजीब बात है इस राजनीति जहाँ एक तरफ ऐसे नेताओं पर कोई भी कारवाही नहीं होती जो महिलाओं पर सरेआम अभद्र भाषा का प्रयोग करते है,आज़म खान का बयान तो अप सब को भी याद होगा ही,जिसके बाद उन पर उनकी पार्टी द्वारा कोई कारवाही नही की गयी और ना उन लोगों के खिलाफ कोई एक्शन लिया जाता है PM के लिए मर्यादा भूल कर कुछ भी बोलते है,चाहे वो हार्दिक पटेल हो PM को यमराज कहने वाले या प्रियंका वाड्रा हो PM को दुर्योधन बोलने वाली..पर दूसरी तरफ एक लड़की को जेल हो जाती है ममता बनर्जी का एक फोटो को फोटोशोप करने पर उनका चेहरा बदलने पर, लेकिन कैसी अजीब बिडम्बना है,हमारे देश की इस पर अभी तक किसी ने कोई प्रशन नहीं उठाया.