हैदराबाद : चारो आरोपियों के ख-त्म होने के बाद क्या बोले डॉकटर परिजन, मानवाधिकार भी हुआ सक्रीय

9348

हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ हुई हैवानियत की घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। हालांकि शुक्रवार सुबह इन चारों आरोपियों के एनकाउंटर की खबर सामने आई है। चारो आरोपियों का उस वक्त एनकाउंटर कर दिया गया, जब उन्हें घटना स्थल पर ले जाकर क्राइम सीन को दोबारा क्रिएट की जा रही थी। इसी बीच उन्होंने भागने की कोशिश की और पुलिस एनकाउंटर में चारो के चारो आरोपी मारे गए।

इस खबर के बाद एक तरफ जहां लोगों में खुशी है कि आरोपियों को सजा मिल गयी वहीं दूसरी तरफ अब मानवाधिकार का रोना भी रोना शुरू हो गया है और इस एनकाउंटर पर सवाल खड़े किए जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट की वकील वृंदा ग्रोवर ने पुलिस पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की. उन्होंने कहा कि पुलिस पर मुकदमा दर्ज किया जानिए और पूरे मामले की स्वतंत्र न्यायिक जांच कराई जानी चाहिए. महिला के नाम में कोई भी पुलिस एनकाउंटर करना गलत है.

 27-28 नवंबर की दरम्यानी रात को हैदराबाद में महिला डॉक्टर के साथ हैवानियत की वारदात को अंजाम दिया गया था. महिला डॉक्टर का जला शव बेंगलुरु हैदराबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर अंडरपास के करीब मिला था. आरोपीयों को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया था इसके बाद उन्हें न्यायिक हिरासत में रखने का आदेश दिया था. हालांकि पुलिस की मांग के बाद चारो आरोपियों को पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया था.

हालाँकि महिला डॉक्टर के परिजनों में इस एनकाउंटर को लेकर ख़ुशी है. महिला के परिजनों ने कहा है कि मेरी बेटी की मौत के 10 दिन के अंदर आरोपियों को मार दिया गया. मैं तेलंगाना सरकार, पुलिस और मेरे साथ खड़े लोगों को बधाई देता हूं. मेरी बच्ची की आत्मा को शांति मिल गई.