टीके की कमी की वजह से नहीं बल्कि आपके फायदे के लिए बढ़ाया गया कोविशील्ड में गैप

182

इंटरनेट पर चारों और टीके के बीच के गैप को लेकर बहस जारी है कि लोगों का कहना है कि वैक्सीन की किल्लत के कारण टीके के दोनों डोज में गैप बढ़ाया गया है. हकीकत ये है कि कोविशील्ड के टीके की डोज यदि 12 से 16 हफ्ते बाद लेंगे तो ये 85% ज्यादा असरदार होगी, एक स्टडी के मुताबिक बताया गया है कि अभी ये  79% ही असरदार बताई गई है, इसीलिए दोनों खुराक के बीच अंतराल को बढ़ाकर 12 से 16 हफ्ता किया गया है.

यूके में अप्रैल के आखिरी हफ्ते में जो परिणाम आए हैं उससे देखकर यह पता चला है कि कोविशील्ड टीके को तीन से चार हफ्ते लगाने पर ज्यादा बेहतर परिणाम दिख रहे हैं.वहीं जो लोग अभी तक कोविशीलिड की दोनों खुराके ले चुके हैं उनके लिए कोई दिक्कत की बात नहीं है.

नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ऑन इम्युनाइजेशन के सदस्य एनके अरोड़ा का कहना है कि कोविशीलिड टीके का गैप बढ़ने से   40 से 50 %  एंट्रीबॉडी बढ़ सकती है. यदि किसी को कोरोना का इन्फेक्शन हो भी जाए तो उनमें एंटीबॉडी 3 से 9 महिने तक बनी रहती है.अगर किसी को टीका लगाया जाए तो इससे एंटीबॉडी कई गुना तक बढ़ जाती है और ये काफी लंबे समय तक रहती है.