Howdy Modi इवेंट में पीएम मोदी के साथ रैली करेंगे ट्रम्प, 50 हज़ार लोग होंगे शामिल

332

22 सितम्बर 2019 को दुनिया एक इतिहास बनते देखेगी. इस दिन दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतान्त्रिक देशों के राष्ट्राध्यक्ष एक साझा रैली करेंगे और करीब 50 हज़ार लोगों को संबोधित करेंगे. पीएम मोदी की अमेरिका यात्रा के दौरान 22 सितम्बर 2019 ह्यूटन शहर के एनआरजी स्टेडियम में एक मेगा इवेंट होगा. इस इवेंट का नाम है Howdy Modi. इस इवेंट में पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प एक साथ एक मंच पर होंगे. इस इवेंट में आने के लिए अब तक 50 हज़ार लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है और करीब 10 हज़ार लोग वेटिंग लिस्ट में है. राष्ट्रपति ट्रम्प के अलावा अमेरिका के कई सांसद भी इस इवेंट में मौजूद रहेंगे.

वाइट हाउस की मीडिया सचिव स्टेफिनी ने बयान जारी कर कहा कि ह्यूस्टन के एनआरजी स्टेडियम में होनेवाले  Howdy Modi कार्यक्रम में मोदी और ट्रंप की यह जॉइंट रैली भारत और अमेरिका के रिश्तों को मजबूत करने का अहम मौका होगा. दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र और सबसे बड़े लोकतंत्र का ये मेल उर्जा, व्यापार और आपसी रिश्तों को नयी ऊँचाइयों पर ले जाएगा.

अमेरिका के इतिहास में ये पहली बार है कि कोई अमेरिकी राष्ट्रपति इतनी बड़ी संख्या में भारतीय मूल के लोगों को सार्वजनिक कार्यक्रम में संबोधित करेगा. व्हाईट हाउस ने अपने बयान में ये भी कहा कि फ़्रांस में जी-7 सम्मलेन के दौरान पीएम मोदी ने ट्रम्प को इस कार्यक्रम का न्योता दिया था और ट्रम्प ने इसे स्वीकार कर लिया है.

मोदी की लोकप्रियता के साहारे चुनाव जीतेंगे ट्रम्प ?

अमेरिका में अगले साल यानी की 2020 में चुनाव होने हैं. चुनाव से पहले ट्रम्प अपने ही देश में घिरे हुए हैं. वहां के राजनितिक विश्लेषकों का मानना है कि ट्रम्प इस बार हार भी सकते हैं. चीन के साथ अमेरिका ट्रेड वार में उलझा है, अफगानिस्तान से सेना को वापस लाने का वादा किया था ट्रम्प ने लेकिन तालिबान से शांति वार्ता टूटने के बाद वो वादा भी अधुरा रह गया. ऐसे में ट्रम्प को एक ऐसे समुदाय का समर्थन चाहिए जो चुनाव में पलड़ा उनकी और झुका सके. अमेरिका में करीब 50 लाख भारतीय हैं और अगर ट्रम्प को उनका साथ मिल गया तो उनको सत्ता में दुबारा वापसी करने से कोई रोक नहीं पायेगा. विदेशों में रहने वाले भारतीय समुदाय में मोदी की लोकप्रियता कितनी है ये किसी से छुपा नहीं है.

ह्यूटन अमेरिका के दुसरे सबसे बड़े राज्य टेक्सास का एक शहर है. टेक्सास में एशियाई मूल के लोगों की संख्या काफी अधिक है. 2018 के आंकड़ों के अनुसार टेक्सास में करीब 4 फीसदी वोटर एशियाई मूल के हैं और इसमें भी भारतीय मूल के वोटर सबसे ज्यादा है.

2016 के प्रीमियर चुनाव में ट्रम्प को टेक्सास में अपनी ही पार्टी में हार झेलनी पड़ी थी लिहाजा इस बार वो मोदी के सहारे भारतीय मूल के वोटरों को लुभाना चाहते हैं. 2014 में जब नरेंद्र मोदी “अबकी बार मोदी सरकार” नारे के साथ जीत कर भारत के प्रधानमंत्री बने थे तो ट्रम्प ने भी “अबकी बार ट्रम्प सरकार” का नारा दे कर भारतीय मूल के वोटरों को लुभाने की कोशिश की थी. उन्होंने आई लाइक हिन्दू, आई लाइक इण्डिया और इस्लामिक आतंकवाद से मिलकर लड़ने की बात कह कर खूब सुर्खिया बटोरी थी. राष्ट्रवाद और ट्रम्प में हिंदुत्व वाले बयानों के कारण अमेरिका का चुनाव भारत में भी चर्चा का विषय बन गया था. ट्रम्प एक बार फिर भारतीय समुदाय को लुभाना चाहते हैं और इस बार उनके साथ दोस्त मोदी भी हैं.

भारतीय समुदाय का वोट कितना अहम् है ये आप इससे समझिये कि Howdy Modi कार्यक्रम में न सिर्फ सत्ताधारी रिपब्लिकन पार्टी के सांसद शामिल हो रहे हैं बल्कि विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद भी शामिल हो रहे हैं. तो इंतज़ार करते हैं और देखते हैं कि क्या मोदी की लोकप्रियता के सहारे ट्रम्प का बेड़ा पार लग पायेगा?