आखिर 2009 में आईपीएल भारत में क्यों नही हुआ? ये रही बड़ी वजह

963

साल 2009 का आईपीएल आपको याद ही होगा? कहाँ हुआ था? अब आप सोच रहे होंगे कि ये कैसा सवाल है और ये हम आपसे क्यों पूछ रहे हैं….भाई साहब ये बहुत जरूरी हैं और क्यों जरूरी है ये हम आपको बताएँगे कि 2009 का आईपीएल भारत में क्यों नही हुआ था.. इसके पीछे की क्या वजह थी और अभी आईपीएल भारत में क्यों हो रहा है इसके पीछे की वजह भी आपको जरूर जाननी चाहिए..
यहाँ हम आपको बता देना चाहते हैं कि भारत में होने वाला आईपीएल क्रिकेट प्रेमियों के लिए एक उत्सव की तरह होता है.. लोगों को स्टेडियम में बैठकर मैच देखने का अवसर मिलता है. लेकिन साल 2009 में होने वाला आईपीएल साउथ अफ्रीका में क्यों शिफ्ट करना पड़ा था.. इसके पीछे का कारण था लोकसभा चुनाव.. जी हाँ 16 April 2009 से 13 May 2009 के बीच देश में लोकसभा चुनाव होने थे लेकिन इसी बीच आईपीएल भी होना था.. 18 अप्रैल से 24 मई के बीच.. जब आईपीएल के अधिकारियों ने इसकी सूचना सरकार को दी तो सरकार ने आईपीएल के कार्यक्रम के दिन को आगे या पीछे करने के लिए कहा लेकिन आईपीएल के अधिकारीयों ने ऐसा करने से इनकार कर दिया.. अब यहाँ एक सवाल जरूर उठ रहा होगा कि सरकार ने आईपीएल को पोस्टपोंड करने के लिए क्यों कहा… इसके पीछे सरकार ने तर्क दिया कि लोकसभा चुनाव के चलते सरकार आईपीएल मैच में सुरक्षा नही दे पाएगी… इसके बाद आईपीएल अधिकारीयों ने आईपीएल के कार्यक्रम को टालने से इनकार किया और तय दिन पर ही आईपीएल को साउथ आफ्रिका में आयोजित किया गया… और यही हाल साल 2014 का भी रहा इस दौरान भी भारत में लोकसभा चुनाव 7 Apr 2014 – 12 May 2014 के बीच हुए थे. इस दौरान भी आठ आईपीएल के मैच भारत से बाहर करवाए गये थे … यहाँ आपको यह याद दिलाना जरूरी है कि जब आईपीएल को देश से बाहर आयोजित करवाया गया इस दौरान देश में कांग्रेस समर्थित यूपीए की सरकार थी जिसमें मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे . लेकिन इस साल भी लोकसभा इलेक्शन होने वाले हैं… 23 मार्च से पांच मई तक आईपीएल का भी आयोजन हो रहा है… इसी बीच लोकसभा चुनाव 11 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं.. और 19 मई तक चलने वाले हैं…. लेकिन इस बार bcci को आईपीएल का आयोजन किसी अन्य देश में आयोजित करवाने पर मजबूर नही होना पड़ रहा है. इसके पीछे क्या वजह है?


वही देश, वही स्टेडियम, वही पुलिस, वही जनता लेकिन सरकार ने आईपीएल को किसी अन्य देश में कराने के लिए bcci को मजबूर क्यों नही किया… आखिर पिछले दो लोकसभा चुनाव के दौरान देश से बाहर आईपीएल हुए लेकिन इस बार क्यों नही?
देश में कई त्यौहार एक साथ मनाये गये और मनाये जा रहे हैं .. जैसे होली, नवरात्री ..रमजान के साथ साथ चुनाव, आईपीएल, सब हो रहे हैं शांतिपूर्ण ढंग से.. वो भी ऐसे समय में जब पाकिस्तान भारत की तरफ मुंह बाए खड़ा है… भारत पाकिस्तान पर स्ट्राइक तक कर दिया.. स्थिति ये हो गयी थी कि ऐसे लग रहा था जैसे युद्ध हो जायेगा.. इन सबके बावजूद सबकुछ शांतिपूर्ण ढंग से कैसे निपट गया.. बिना किसी परेशानी के…

शायद इसे मैनेजमेंट कहते हैं.. और यही मैनेजमेंट देश में शांति बनाये रखने और सभी कार्यक्रम को शांतिपूर्ण ढंग से आयोजित करवाने में सफल रहा है. इसमें देश की सरकार को सफलता मिली है और देश के कार्यक्रमों को हर स्थिति में देश में ही आयोजित करवाने में सक्षम हुआ है. चुनाव के समय में लगभग देश के हर बड़े आयोजन को आगे बढ़ा दिया जाता है लेकिन इस बार ऐसा देखने को नही मिल रहा है. चुनाव के साथ साथ देश में सबकुछ चल रहा है. शायद ये सब पूर्णबहुमत वाली सरकार का नतीजा है जो बड़े और कठोर फैसले लेने में भी सक्षम है. वहीं गठबंधन और मिल जुल कर बनने वाली सरकार को फैसले लेने में कितनी दिक्कतें होती हैं यही वजहें रही होंगी कि आईपीएल तक को देश से बाहर आयोजित करना पड़ा था और आज देश में सबकुछ सामान्य चल रहा है.