इस राज्य में अगर आपको चाहिए श-राब तो होगी होम डिलीवरी, शुरू हुआ ट्रायल

750

अब तक श-राब खरीदने के लिए ठे-के पर जाना होता है. लेकिन अब ठे-के की भीड़ से मुक्ति दिलाने की तैयारियां शुरू हो गई है. अब श-राब की होम डिलीवरी करवाने की तैयारी शुरू हो रही है. बाकायदा इसे अमल में लाने के लिए ट्रायल भी शुरू हो चूका है.

ऑनलाइन बिक्री के जरिये श-राब को घर तक पहुंचाने की तैयारी हो रही है पंजाब में. इसके लिए मोहाली में ट्रायल शुरू हो चूका है. अगर पंजाब सरकार की ये कोशिश कामयाब होती है तो जल्द ही खाने पीने की चीजों की तरह श-राब भी अब घर तक पहुंचेगी. लेकिन ये इतना आसान भी नहीं है. इसी तरह की एक कोशिश 2018 में महाराष्ट्र सरकार ने की थी लेकिन वो योजना परवान नहीं चढ़ सकी थी.

शुक्रवार को पंजाब सरकार ने साल 2020-21 के लिए राज्य की नई एक्साइस पॉलिसी की घोषणा की. इसमें मोहाली में ट्रायल बेसिस पर एक ऑनलाइन प्लैटफॉर्म बनाने का प्रस्ताव रखा है, जिसके जरिए श-राब की होम डिलिवरी की जा सके. सरकार ने स्पष्ट किया कि इस प्लान को शहर के सभी लाइसेंसी श-राब विक्रेताओं से चर्चा कर ही आगे बढ़ाया जाएगा और अगर कोई आपत्ति आती है तो इसे रद्द किया जा सकता है.

सरकार ने कोशिशें शुरू तो कर दी लेकिन ये कानूनी रूप से बहुत ही मुश्किल प्रक्रिया है. संविधान अनुच्छेद 47 के मुताबिक, सरकार को नशी-ले पदार्थों के उपयोग (मेडिकल उद्देश्यों को छोड़कर) पर रोक की कोशिश करनी चाहिए. ऐसे में अगर सरकार श-राब को घर घर पहुंचा रही है तो इसे कानूनी रूप से चुनौती मिल सकती है.

पेशे से वकील, एक्साइस और टैक्सेशन एक्सपर्ट अजय जग्गा ने कहा कि ‘श-राब की ऑनलाइन बिक्री की व्यवस्था असंवैधानिक है क्योंकि यह श-राब की बिक्री को बढ़ावा देगी. इसके अलावा यह कैसे तय होगा कि जो ऑनलाइन श-राब खरीद रहा है, वह 25 साल की उम्र से ऊपर है या नहीं?’