हंदवाड़ा में आ’तंकि’यों से मुठभेड़ में शहीद हुए कर्नल आशुतोष शर्मा अपनी माँ से किया वादा नहीं कर पाए पूरा

2647

जम्मू और कश्मीर के हंदवाड़ा में हुए एन’काउं’टर में दो आ’तं’की मा’रे गए. इस ऑपरेशन में ल’श्कर कमांडर हैदर भी मा’रा गया है. लेकिन हमारे 5 जवानों को अपने जीवन की कुर्बानी देनी पड़ी. शहीदों में एक कर्नल, एक मेजर, दो सेना के जवान और एक जम्मू-कश्मीर पुलिस के सब-इंस्पेक्टर शामिल हैं. पूरा देश शहीदों को श्रद्धांजलि दे रहा है. पीएम मोदी ने कहा जवानों की शहादत याद रखी जायेगी.

इस पूरे ऑपरेशन को लीड कर रहे थे कर्नल आशुतोष शर्मा. आशुतोष शर्मा का परिवार उत्तर प्रदेश का रहने वाला है. लेकिन इस वक़्त पूरा परिवार जयपुर में रहता है. उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में उनका पैतृक गाँव है. लेकिन पूरा परिवार जयपुर में ही रहता है इसलिए शहीद कर्नल का अं’तिम संस्कार जयपुर में ही किया जाएगा.

शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा की माँ अपने बेटे की शहादत की खबर के बाद से ही सदमे में है. मां ने कहा, बेटा बोल रहा था कि तुझे हंदवाड़ा घुमाउंगा लेकिन अब वो नहीं रहा. फोन करता था तो मुझसे जरूर बात करता था. आखिरी बार जब बात हुई थी तो कहा था अभी कुछ व्यस्त हूं लेकिन जब आउंगा तो तुम्हे हंदवाड़ा घुमाउंगा. बेटा हमेशा फोन करता था.

शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा की पत्नी पल्लवी शर्मा ने कहा कि कल रात से ही उनसे संपर्क नहीं हो पा रहा था. शादी के 14 साल हो गए हैं. जब भी उनसे संपर्क नहीं हो पाटा तो हम समझ जाते थे कि कहीं ऑपरेशन पर हैं. लेकिन कहीं न कहीं कल रात से अंदेशा हो गया था कि कुछ हो गया है. कल रात से उनसे कॉन्टेक्ट नहीं हो पा रहा था.