पकिस्तान में फिर एक हिन्दू लड़की से कराया गया धर्म परिवर्तन

1446

बीते दिनों से पाकिस्तान में गैर मुस्लिमों के साथ अत्याचार के मामले बढ़ते जा रहे है. भारत को human rights उल्लंघन के लिए नसीहत देने वाले पाकिस्तान को अपने गिरेबान में झाँकने की जरुरत है. human rights की नसीहत देने वाले पाकिस्तान में ही human rights का उल्लंघन किया जा रहा है. पाकिस्तान न सिर्फ सरहद पे नापाक साज़िश रच रहा है बल्कि वहां पर गैर मुस्लिमों के साथ अत्याचार भी कर रहा है. पाकिस्तान जो पूरी दुनिया के सामने इंसानियत का रोना रो रहा है, पकिस्तान जिसके पास चाय पीने तक के पैसे नही है, पाकिस्तान जिसके विरोध में खुद पाकिस्तानी आवाम सडकों पर आ गई थी. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जिसके पास बिजली का बिल भरने तक के पैसे नही है. दुनिया से अलग थलग होने के बाद भी पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नही आ रहा है.

कुछ दिनों पहले पाकिस्तान में एक सिख लड़की का जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाया गया था और अब फिर से ऐसी ही एक और घटना सामने आई है. पाकिस्तान के सिंध के सक्खर इलाके से एक हिंदू लड़की का अपहरण करने का मामला सामने आया है. अपरहण की गयी लड़की का नाम रेनो है. इस घटना को अंजाम तब दिया गया जब वो कॉलेज जा रही थी. लड़की के साथ उस ही के क्लास में पढ़ने वाले बाबर अमन और उसके साथी मिर्ज़ा दिलावर बेग ने उसे अगवा कर लिया. मिर्ज़ा दिलावर बेग पाकिस्तान-तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी का सदस्य है, आपको बता दे कि ये पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी है. आरोप है कि लड़की को PTI कार्यकर्ता के घर पर ही ले जाया गया है, जो कि सियालकोट में है. वहां पर उसे जबरन इस्लाम धर्म कुबूल करवाया गया और उसकी शादी बाबर अमन के साथ करवा दी गई. हालांकि अभी उस लड़की और बाबर अमन का कुछ पता नही चला है. लेकिन खबरों के मुताबिक पुलिस ने बाबर अमन के भाई को गिरफ्तार कर लिया है.

source – @samaylive

ऑल पाकिस्तान हिंदू पंचायत के जनरल सेक्रेटरी रवि द्वानी का कहना है कि ये गेर मुस्लिमों के लिए दुख की बात है और दो महीने के अन्दर ये तीसरा मामला सामने आया है. क्या हम किसी ऐसे संत या विशेष व्यक्ति का इंतेज़ार कर रहे हैं जो आसमान से हमारे नेतृत्व में आए. हमें इस बारे में खुद सोचना होगा.

इससे पहले भी एक 19 साल की लड़की का अपरहण कर जबरदस्ती उसका धर्म परिवर्तन कराया गया था. भारत में इस मामले को लेकर काफी विवाद हुआ था. पता नही ऐसे और कितने गैर मुस्लिम होंगे जिनका जबदस्ती धर्म परिवर्तन करवाया गया होगा. लेकिन वहां की मीडिया ऐसी खबरों को दिखाने से बचती है. लेकिन अब दुनिया में लोगों के पास सोशल मीडिया जैसा हथियार है जिसके जरिये उनसे कोई भी खबर छुपाई नहीं जा सकती. ये सभी मामले पाकिस्तान के गैर मुस्लिमों की कहानी बयान कर रहे है. ये मामले बताते है कि पाकिस्तान में गैर मुस्लिमों के साथ किस तरह से अत्याचार किए जा रहे है. कश्मीर मुद्दे पर human rights की बात करने वाले इमरान खान क्या इतने गिर चुके है कि वो इन सभी मामले को लेकर कुछ कदम न उठाकर चुप्पी साधे हुए है.