कोरोना ने पूरी दुनिया में इस समय हाहाकार मचा रखा है. सरकार एक के बाद एक बड़ा कदम उठा रही है और पब्लिक ट्रांसपोर्ट जैसी सुविधाओं को बंद कर रही है जिससे एक साथ ज्यादा लोग एक जगह एकत्रित ना हो और ये वायरस और लोगों में न फैले. वहीं केंद्र सरकार और राज्य सरकारें लगातार लोगों से अपील कर रही हैं कि वह इस मुश्किल भरे समय में घर में ही रहें.

जानकारी के लिए बता दें इस भयंकर बीमारी को फैलने से रोकने के लिए कई राज्य सरकारों ने अपने प्रदेश को लॉकडाउन करने का फैसला लिया जिससे ये बीमारी लोगों में नही फ़ैल सके. पंजाब, राजस्थान और दिल के बाद अब एक और राज्य में लॉकडाउन की घोषणा वहां के मुख्यमंत्री ने कर दी है. कोरोना से बढ़ रहे खतरे को देखते हुए हिमाचल को भी लॉकडाउन करने का फैसला किया गया है.

विधानसभा बजट सत्र के दौरान सीएम जयराम ठाकुर ने ये ऐलान किया है कि कि अगले आदेश तक राज्य लॉकडाउन रहेगा. कांगड़ा की तर्ज पर पूरे हिमाचल में आज यानी २३ मार्च से लॉकडाउन किया जा रहा है. दरअसल हिमाचल सरकार ने कांगड़ा को रविवार को ही लॉकडाउन करवा दिया था. इससे पहले 8 दिन के अवकाश के बाद सुबह 11 बजे से हिमाचल विधानसभा का बजट सत्र शुरू किया जिसके बाद ये फैसला लिया गया है.

गौरतलब है कि सोमवार को सत्र केवल एक घंटे को ही बुलाया गया है. हिमाचल में कोरोना के दो नए मरीज सामने आए हैं जिसके चलते सरकार ने सचेत होते हुए ये फैसला लिया है. सोमवार को सदन में कोरोना वायरस के चलते विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने सरकार से पूरे प्रदेश को लॉकडाउन करने की मांग की और कहा कि सरकार कर्मचारियों को अवकाश पर भेजे और उनका वेतन पूरा दिया जाए. मुकेश ने कहा कि राज्य को 15 दिन के लिए लॉकडाउन किया जाये, उन्होंने कहा प्रदेश को बचाने के लिए केवल यही एक मात्र उपाय है जिसके बाद सरकार ने ये बड़ा फैसला ले लिया है.