आज की चौपाल- पुलवामा से जुड़े हर खबर पर हमारी नजर

461

देश का सारा बजट लगा दो, इलेक्शन को देश से हटा दो,एक वक्त का खाना मत दो, हमें गैस कनेक्शन मत दो, ईद दीवाली बन्द करा दो, जितना मर्जी टैक्स लगा दो, बस आतंकियों को सबक सिखा दो, सबक सिखा दो…आगे बढ़ो और आतंकियों को ठोक दो, ठोक दो, बस ठोक दो..आज ये शब्द हर देशवासियों के जहन से निकल रहा है.. आज खबरों में बस दर्द और दर्द है…एक ऐसा दर्द जिसे हम किसी भी शब्दों में बया नहीं कर पा रहे है…जिसके लिए हर एक दुखद शब्द भी कम पड़ गए हैं..

कल जो कुछ भी जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुआ उसको भर पाना नामूमकिन हैं..पुलवामा में आतंकी हमले में हमने लगभग 40 जवान खो दिए है..और अभी भी कई जवान गंभीर रूप से घायल हैं..जिनका इलाज चल रहा हैं….लेकिन इस शहादत के बदले में पूरा देश जल रहा है..पूरा देश कोर्ध में हैं…और अब इसी सिलसिले में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हुई सुरक्षा मामलों की केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया है कि पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है.

CCS की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री अरुण जेटली, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शामिल हुए. इस बैठक में बड़े फैसले लिए गए हैं…

1. पाकिस्तान से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया गया है. इसका मतलब ये हुआ की अभी तक पाकिस्तान को भारत के साथ ट्रेड करने में जो छूट मिलती है, वह बंद हो जाएगी.

2. विदेश मंत्रालय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए सभी देशों से बात करेगा. पूरे दुनिया के सामने पाकिस्तान के आतंकपरस्ती चेहरे का पर्दाफाश किया जाएगा.

3. 1986 में भारत ने संयुक्त राष्ट्र में आतंकवाद की परिभाषा बदलने के लिए जो प्रस्ताव भी दिया था. उसे पास करवाने के लिए पूरी कोशिश की जाएगी. इस प्रस्ताव को पास करवाने के लिए दूसरे देशों पर दबाव बनाया जाएगा.

4. गृह मंत्री ने कल सर्वदलीय बैठक बुलाई है. इस बैठक में राजनाथ सिंह पुलवामा हमले पर विपक्षी पार्टियों से विस्तार से चर्चा करेंगे.

5. पीएम मोदी ने भी आतंकवाद के खिलाफ जंग छेड़ दी है. उन्होंने कहा कि आतंकवादी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं. पीएम मोदी ने सेना को खुली छूट दे दी है.

हमले के बाद से ही गृह मंत्रालय और सीआरपीएफ की तरफ से यह जानकारी इकट्ठा की गई कि शहीद हुए इन जवानों के घर कहां-कहां हैं और उनके सम्‍मानपूर्वक उनके घरों तक ले लाने के लिए विशेष तौर पर हेलिकॉप्‍टरों की व्‍यवस्‍था की गई है. साथ ही शहीद जवानों के परिजनों के बैंक खाते की जानकारी भी मांगी गई है, ताकि उनकी मदद के लिए बल की तरफ से सहायता राशि दी जा सके.

आज सुबह से ही सुरक्षाबलों की ओर से पुलवामा के आस-पास के गांवों में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है. लोकल पुलिस ने अभी तक 5 युवकों को हिरासत में ले लिया है, इन युवकों को जम्मू-कश्मीर के दो गांवों से हिरासत में लिया गया है. हालांकि, पुलवामा हमले के बाद घाटी में अभी सेना, सीआरपीएफ और अन्य सुरक्षाबलों के काफिले की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है.

हम भी यही आशा करते है की गुनहगारों को उनके किए की सजा जल्द से जल्द मिलनी चाहिए..सरकार के इस पहल के बाद लग रहा है की भारत आतंक के खिलाफ अपनी लड़ाई को और भी तेज करेगा….