कोरोना वा’य’र’स के इलाज में कारगर सा’बि’त हुई ये दवा, इस नए अध्ययन में किया गया दावा, पढ़ें पूरी खबर..

59

पूरी दुनिया में कोरोना काल से परेशान है. इस म’हा’मा’री से बचने के लिए और इसकी वैक्सिन बनाने के लिए वैज्ञानिकों ने अपनी पूरी तातक झों’क दी है. इस म’हा’मा’री से जुड़ी एक अच्छी और राहत देने वाली खबर आई है. बता दें कि एक अध्ययन में ये दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के इलाज में हेपेटाइटिस-सी की दवाएं का’र’ग’र हैं.

जानकारी के लिए बता दें कि स्ट्रक्चर नाम की विज्ञान पत्रिका में छपे एक शो’ध में ये दावा किया गया है. बता दें कि अमेरिकी ऊर्जा विभाग के वैज्ञानिकों ने अध्ययन में पाया कि हेपेटाइटिस-सी की दवाओं में एक विशेष एंजायम मौजूद है, जो इंसानी को’शि’का’ओं में कोरोना वा’य’र’स को अपनी संख्या बढ़ाने से रोकने की क्ष’म’ता रखता है.

द’र’अ’स’ल अमेरिकी ऊर्जा विभाग की ओक रिज राष्ट्रीय प्रयोगशाला में यह अध्ययन किया गया. जिसमे ये पाया गया है कि हेपेटाइटिस-सी की दवा से इस म’हा’मा’री के मुख्य प्रोटीज को न’ष्ट किया जा सकता है. इस प्रोटीज में एक महत्वपूर्ण प्रोटीन एंजायम है जो कोरोना वायरस को प्रजनन की श’क्ति देता है.

बता दें कि शोधकर्ताओं का मानना है कि इस महामारी से लड़ने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी कोरोना वायरस के सं’क्र’म’ण को फैलने से रोकना है. इस दवा के माध्यम से उसमें मौजूद प्रोटीज को कार्य करने से रोका जा सकता है. वहीं मुख्य लेखक डैनियल नेलर का कहना है कि हमने पाया कि हेपेटाइटिस-सी ड्रग्स को’रो’ना वायरस प्रोटीज को रोकता है और बा’धि’त करता है.

बता दें कि यह पहली ऐसी दवा है जो इस वायरस के प्रोटीज को रोकता है और बाधित कर सकता है.ऐसे में अगर यह दावा सच सा’बि’त होता है तो यह इस जं’ग की एक बड़ी जीत मानी जा सकती है. वहीं अगर हम भारत की बात करें तो कोरोना का कहर अब भी अपने चरम पर है, देश के कई ऐसे शहर हैं जहां एक बार फिर कोरोना ने को’ह’रा’म मचा रखा है.