तनाव के बीच चीन सीमा पर सड़क निर्माण का काम तेज करने के लिए भारत ने हेलिकॉप्टर से उतारे भारी उपकरण

2319

चीन से तनाव बढ़ने के बाद भारत ने चीन से लगती उत्तराखंड की सीमा पर भी इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित करने का काम तेज कर दिया है. इसी कड़ी मुनस्यारी से मिलम तक सड़क निर्माण में अब तेजी ली जा रही है. सीमा सड़क संगठन इस इलाके में सड़क निर्माण का काम कर रहा है. पिछले कई सालों से सड़क निर्माण का काम चल रहा है लेकिन कठिन भौगोलिक परिस्थितियों की वजह से सड़क निर्माण में दिक्कत आ रही थी. लेकिन अब उत्तराखंड के जौहर घाटी के कठिन हिमालयी इलाके में हेलिकॉप्टर से भारी मशीनें उतारी गई हैं जिससे सड़क निर्माण में तेजी आ सकेगी.

ये मौसम के लिहाज से काफी दुष्कर हिमालयी क्षेत्र हैं. यहाँ पिछले कई सालों से हेलिकॉप्टर के जरिये भारी उपकरण उतारने की कोशिश जा रही थी लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही थी. लेकिन इस बार हेलिकॉप्टर से उपकरण उतारने में सफलता मिल गई. उत्तराखंड की सीमा नेपाल और चीन दोनों देशों से लगती है. मुनस्यारी वो क्षेत्र है जहाँ दोनों देश भारत के साथ एक साथ मिलते हैं. मुनस्यारी पिथौरागढ़ जिले में पड़ता है. पिथौरागढ़ जिले में जौहर घाटी के उच्च हिमालयी क्षेत्र में बनने वाली मुनस्यारी-बोगडियार- मिलम सड़क भारत-चीन सीमा पर स्थित अंतिम चौकियों की एक कड़ी होगी. सीमा सड़क संगठन के अधिकारियों ने बताया, ‘पिछले साल कई असफल प्रयासों के बाद, हम इस महीने में भारी मशीनों के साथ हेलिकॉप्टर उतारने में सफल रहे. अब हमें उम्मीद है कि यहां पर चुनौतीपूर्ण सड़क निर्माण का काम अब अगले तीन वर्षों में पूरा कर लिया जाएगा.’

दरअसल इस सड़क निर्माण के रास्ते में 22 किलोमीटर की सीधी पहाड़ी आ रही थी. चट्टानों को काटने के लिए भारी उपकरण की जरूरत थी जो अब हेलिकॉप्टर के सहारे पहुंचाई जा चुकी है. इस सड़क का निर्माण 2010 में शुरू कियागया था और इसकी लागत 325 करोड़ थी. सड़क का निर्माण दोनों और से किया जा रहा है. इसलिए अब इसका निर्माण जल्द ही पूरा हो जाएगा.