कोरो’ना के बारे में स्वास्थ्य विभाग ने बताई है एक ऐसी बात जो आपको जरुर सुननी चाहिए

2776

कोरो’ना वायरस को लेकर देश में दिक्कते बढ़ रही हैं. इस वक़्त प्रधानमंत्री मोदी ने सभी विपक्षी पार्टियों के लोगों से बात कर के लोगों को कहा है कि आप लोग इस आपदा में मिल कर देश को इस महा’मा’री से जीत दिलाएंगे मोदी खुद कोरो’ना जैसी महा’मा’री से देश को बचाने में लगे हुए हैं. उम्मीद हैं की जल्दी ही हम सब इस महासंक’ट से बाहर आयेंगे और फिर से एक खुशहाली वाली जीवन को जियेंगे.

दूसरी तरफ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस वक़्त एक बड़ा बयान दिया है. उसने कहा है कि भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन की स्थिति नहीं है लेकिन सावधान रहने की जरूरत है. इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि राज्य में 27 कोरो’ना मरीजों की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है, ऐसे में इनमें से ज्यादातर को कम्युनिटी ट्रांसमिशन कहा जा सकता है. उन्होंने कुछ विशेषज्ञों का हवाला देते हुए कहा कि स्थिति भयावह हो सकती है और इसको लेकर पूरी तरह से तैयारी करनी होगी.

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के मुताबिक, पीजीआई चंडीगढ़ के विशेषज्ञों का अनुमान है कि भारत में सितंबर के मध्य में कोरो’ना वायरस का कहर अपने चरम पर होगा और देश की 58 फीसदी आबादी इसकी चपेट में होगी. शायद कोरोना के बढ़ते हुए कदम को देखते हुए अमरिंदर सिंह ने अपने राज्य को जितन हो सकता था उतना उसपर लगाम लगाने कि कोशिश की हैं.

दरअसल भारत के लिए इस बीच एक खुशखबरी ये है जो विदेश मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि भारत को कई देशों से हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन के अनुरोध मिले हैं. वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि भारत में 1 करोड़ हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन टैबलेट की जरूरत है जबकि हमारे पास 3.28 करोड़ टैबलेट हैं. तो इस बात से साफ़ होता है की भारत में दवा की कमी नहीं है और ना होगी.

देश के अंदर जो आंकड़े बताये गएँ है वो भी चौकाने वालें है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, कोरोना वायरस के कारण देश में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर शुक्रवार को 199 हो गई और संक्रमित लोगों की संख्या 6,412 पर पहुंच गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में अब भी 5,709 लोग संक्रमित हैं, 503 लोग स्वस्थ हो गए और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई तथा एक व्यक्ति देश छोड़कर चला गया है. देश में सबसे ज्यदाद कोरोना के मरीज महाराष्ट्र में मिले हैं. जहाँ पर आज 22 लोग एक साथ जा रहे थे. अब ये समज नहीं आ रहा है कि उद्धव के हाथो से चीज़े निकल रही हैं या फिर इतनी गंभीर बीमारी को लेकर वो सीरियस नहीं है या लापरवाही कर रहें हैं.