जनाब ये एयरपोर्ट नहीं बल्कि रेलवे स्टेशन है मंडुआडीह

525

सबका साथ,सबका विकास यही वो नारा है जिसका जिक्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार करते हैं। नरेंद्र मोदी विकास के नारे के साथ ही 2014 में केंद्र की सत्ता में आए थे। कार्यकाल के अंतिम दौर में केंद्र सरकार के किए गए कामों का नतीजा लगातार सामने आ रहा है..इसका ताजा उदाहरण हैं वाराणसी का मंडुआडीह रेलवे स्टेशन..जी हां ये है वाराणसी का मंडुआडीह रेलवे स्टेशन..मंडुआडीह रेलवे स्टेशन को पूरी तरह से बदल कर अत्याधुनीक कर दिया गया है..यह देखने में किसी विश्वस्तरीय एयरपोर्ट जैसा लगता है..एयरपोर्ट की तर्ज पर बने इस रेलवे स्टेशन पर फूड प्लाजा, कैफिटेरिया, वातानुकूलित लाउंज और एसी वेटिंग हाल जैसी सुविधाएं भी दी गई है..वाराणसी के घाट और वहां की सुंदरता में ये स्टेशन चार-चांद लगा रहा है.

एयरपोर्ट की तरह यहां सुविधाओं के साथ ही कई नई चीजें देखने के लिए हैं। नट-बोल्ट से बनाये गये गांधीजी, इलेक्ट्रानिक रिजर्वेशन चार्ट डिस्प्ले बोर्ड, एयरपोर्ट की तरह प्लेटफार्म पर प्रवेश व निकास, इल्यूजनल लाइट-साउंड-स्मोक सिस्टम से युक्त हेरिटेज इंजन आदि। मडुआडीह स्टेशन के कायाकल्प की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खुब वायरल हो रही हैं।

अब इसी सिलसिले में रेल मंत्री पीयूष गोयल का एक ट्वीट भी चर्चा में हैं, पीयूष गोयल ने ट्विटर अकाउंट से मंडुआडीह रेलवे स्टेशन की कुछ तस्वीरें शेयर की है और लिखा है, ‘किसी एयरपोर्ट की तरह चमकता वाराणसी का मंडुआडीह रेलवे स्टेशन आज यात्रियों को सुविधा के साथ साथ 5 सालों में हुई देश की तरक्की का एहसास करा रहा है। रेलवे स्टेशनों का यह रूप और सुविधाएं आने वाले समय मे देश भर में मिलेंगी। नामुमकिन अब मुमकिन है।’

21 फरवरी को भी पीयूष गोयल ने मंडुआडीह स्टेशन का एक वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा था कि वाराणसी का मंडुआडीह स्टेशन विश्वस्तरीय सुविधाओं के साथ अपनी स्वच्छता और सौंदर्यीकरण से यात्रियों को एक नया अनुभव प्रदान कर रहा है। काशी के प्राचीन वैभव को पुनः जीवित करता यह स्टेशन देश के सबसे सुंदर स्टेशनों में से एक बनने जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि यह रेलवे स्टेशन है। प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी के साथ मंडुआडीह रेलवे स्टेशन का विकास किया हैं। बहरहाल, स्टेशन की भव्यता सबको आकर्षित कर रही है।

बदल सकता है मंडुआडीह स्टेशन का नाम

यूपी में जगहों और स्टेशनों के नाम बदलने का सिलसिला अभी भी थमा नहीं है, सूत्रों कि माने तो जल्द ही वाराणसी के मंडुआडीह रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर बनारस रखा जाएगा. पीएम नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मंडुआडीह स्टेशन का नाम बनारस के रूप में परिवर्तित करने का अनुरोध किया है।

बता दें, नाम बदलने को लेकर पिछले कई सालों से ऐसी मांग चल रही थी और बीजोपी ने सरकार में आने से पहले ऐसे वादे भी किए थे जिसे अब वो पूरा करने जा रही है.

हालांकि पिछले कई सालों से ऐसी मांग चल रही थी और बीजोपी ने सरकार में आने से पहले ऐसे वादे भी किए थे जिसे अब वो पूरा करने जा रही है.