आज की चौपाल- पढ़िए 24 फरवरी की बड़ी खबरें

308

आज की चौपाल में पढ़िए आज की कुछ बड़ी खबरों के बारे में..बड़ी खबरों में लगभग 129 लोगों के मरने की खबर है..तो वहीं दूसरी तरफ मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया हैं, तो खबरों में एक IPS की खुदकुशी करने का मामला भी सामने आया है और इसमें दिलचस्प बात ये है की अधिकारी ने सूइसाइड नोट में सीएम ममता बनर्जी पर उंगली उठाई हैं…तो चलिए इन सारी खबरों को विस्तार से जानते है..

1.गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर लंबे समय से बीमार चल रहे है..और अब इसी कड़ी में 23 फरवरी के रत मनोहर पर्रिकर को गोवा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। मुख्यमंत्री कार्यालय ने बयान जारी कर कहा है कि पर्रिकर को गैस्ट्रो इन्टेस्टाइनल एन्डॉस्कॉपी के लिए गोवा मेडिकल कॉलेज ले जाया गया है। फिलहाल पर्रिकर  की सेहत स्थिर बनी हुई है और उन्हें करीब 48 घंटे डॉक्टरों की देखरेख में रखा जाएगा..

बता दें कि 62 वर्षीय गोवा के चीफ मिनिस्टर पर्रिकर लंबे समय से बीमार चल रहे हैं। सीएम कैंसर की बीमारी से जूझ रहे हैं। पिछले दिनों गोवा विधानसभा के डेप्‍युटी स्‍पीकर मिशेल लोबो ने कहा था कि दिल्‍ली के एम्‍स अस्‍पताल में इलाज करा रहे राज्‍य के मुख्‍यमंत्री मनोहर पर्रिकर की हालत ‘बहुत ज्‍यादा खराब’ है और वह ‘ईश्‍वर के आशीर्वाद’ पर जिंदा हैं। लोबो ने यह भी कहा कि जिस दिन पर्रिकर मुख्‍यमंत्री पद से इस्‍तीफा देंगे या ‘उन्‍हें कुछ हो जाता है’ तो गोवा राजनीतिक संकट में घिर जाएगा।

बता दें कि कैंसर के चलते उनकी सेहत में लगातार उतार-चढ़ाव बना रहता है. लेकिन कैंसर जैसी बीमारी से पीड़ित होने के बाद भी पर्रिकर एक ऐसे शख्स हैं जो कभी आराम  नहीं करना चाहते. पर्रिकर का एडवांस पैन्क्रिएटिक कैंसर का इलाज एक साल से ज्यादा समय से चल रहा है.

2. वही, दूसरी खबर असम से है जहां ज़हरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 129 हो गई है…अधिकारियों के मुताबिक 300 से ज्यादा लोग घायल है और कई की हालत गंभीर बनी हुई है..बता दें की मृतकों में कई महिलाएं भी शामिल हैं…ये सभी पीड़ित गोलाघाट और जोरहाट जिले के चाय बागानों में काम करते थे.. लगतार बढ़ रहे मौतों के आंकड़े को देखते हुए मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने जोरहट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में पीड़ितों से मुलाकात की और प्रत्येक मृतक के परिजनों को दो-दो लाख रुपये और अस्वस्थ हुए लोगों को 50-50 हजार रुपये की सहायता राशि देने का एलान किया..

बता दें कि असम में चाय बागान के काम करने वाले मज़दूर अक्सर अपनी थकान मिटाने के लिए काम से लौट कर शाम के वक़्त शराब पीते हैं. जिस शराब के पीने से इतनी संख्या में लोगों की मौत हुई है, वो स्थानीय लोगों के द्वारा ही बनाई गई थी..जानकार बताते हैं कि ये शराब, वहां मिलने वाली देसी शराब से सस्ती और ज़्यादा नशीली होती है. पांच लीटर शराब के लिए उन्हें महज 300 से 400 रुपए चुकाने होते हैं…

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने इस घटना की जांच के आदेश दिए हैं और एक महीने के अंदर जांच रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए हैं। सरकार ने इस मामले में दो आबकारी अधिकारियों को जिम्मेदार पाया है और दोनों अधिकारियों को निलंबित कर दिया है|

3.पिछले दिनों हाथ की नस काटकर आत्महत्या करने वाले पश्चिम बंगाल के आईपीएस अधिकारी का सूइसाइड नोट सामने आया है। इस खत में दिवंगत अधिकारी ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। 1986 बैच के ऑफिसर गौरव दत्त ने सूइसाइड नोट में लिखा है कि उनके इस ऐक्शन के लिए सीएम सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सीएम ने 10 सालों तक उनका मानसिक उत्पीड़न किया है जिससे परेशान होकर उन्हें ऐसा कदम उठाना पड़ा है।

बता दें कि 19 फरवरी को पद्मश्री अवार्ड आईपीएस ऑफिसर गोपाल दत्त के बेटे रिटायर्ड आईपीएस अधिकारी गौरव दत्त ने हाथ की नस काटकर आत्महत्या कर ली थी। अपने सूइसाइड नोट में ममता बनर्जी पर आरोप लगाते हुए दत्त ने लिखा कि सीएम ने उन पर चल रहे दो लंबित मामलों को बंद करने से इनकार कर दिया था। इनमें से पहले केस की फाइल राज्य सरकार ने खो दी थी। वहीं दूसरे केस में उन पर भ्रष्टाचार का कोई भी आरोप सिद्ध नहीं हो पाया था।

दत्त ने लिखा कि डीजी के रिक्वेस्ट करने के बाद भी ममता बनर्जी ने दोनों मामलों को बंद करने से इनकार कर दिया था। उन्होंने आगे लिखा कि ऐसी तंगदिली और ऐसा प्रतिशोधात्मक रवैया किसी भी राष्ट्रीय स्तर के नेता में नहीं होना चाहिए। अपने अंतिम पत्र में आईपीएस अधिकारी ने स्पष्ट किया था कि वह यह सब पूरे होशो-हवास में लिख रहे हैं।

बहरहाल, ये पहला मौका नहीं है जब बंगाल में किसी ऑफिसर्स के साथ हो रहे अत्याचार का मामला सामने आया है..इससे पहले भी ममता बनर्जी की तानाशाही के खिलाफ आवाजें उठी है और आज भी उठ रही हैं.

वही, दूसरी तरफ पीएम मोदी प्रयागराज के दौरे पर है और इस दौरान उन्होंने कुंभ में डूबकी भी लगाई. इसमें दिलचस्प ये रहा की पीएम मोदी ऐसे पहले पीएम बने जिन्होंने सफाईकर्मियों के पैर धोए..जी हां पीएम मोदी ने कुंभ की देखभाल करने वाले कुछ कर्मचारियों के पैर अपने हाथों से धोए है…ये पहला मौका है जब किसी पीएम ने ऐसा किया हो..बहरहाल इससे जूड़ी और ताजा अपडेट के लिए हमारा ये वीडियो देखिए…