लॉकडाउन में बाहर फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए सरकार का बड़ा कदम, चलाई पहली स्पेशल ट्रेन!

कोरोना देश के हालात लगातार बिगड़ते जा रहे हैं. पिछले 24 घंटे में 2 हजार से ज्यादा मरीजों की संख्या बढ़ी है जोकि चिंता का विषय है. सरकार की तमाम कोशिशों के बावजूद भी हर दिन मरीज बढ़ते जा रहे हैं. अब भारत में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 35 हजार के पार हो गयी है. सरकार ने वो तो पूरे देश में लॉकडाउन लागू कर दिया नहीं तो हालात आज और भी भयावह हो सकते थे.

जानकारी के लिए बता दें देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद पूरे देश में 3 मई तक के लिए लॉकडाउन कर दिया था और आवाजाही पर भी रोक लगा दी थी. सरकार के इस कदम के बाद बस, ट्रेन और हवाई सेवा भी बंद हो गयी जिसके चलते लाखों आदमी अलग-अलग जगह फंसा हुआ है. सरकार के लिए ये सबसे बड़ा चुनौतीपूर्ण कार्य है कि एक राज्य में फंसे व्यक्ति को दूसरे राज्य तक पहुंचाना.

देश के अलग-अलग हिस्सों से लोगों के फंसे होने की दिक्कत सरकार के सामने आ रही थी हालाँकि सरकार लोगों के लिए हर संभव मदद कर रही है.लोगों को बस यही इंतजार है कि कैसे भी बस ट्रेन चालू हो जाएँ तो वो अपने अपने घर जा सकें. इसी बीच एक ऐसी खबर जो बाहर फंसे हुए लोगों के चेहरे पर मुस्कान ला सकती है. जी हाँ लॉकडाउन में फंसे मजदूरों को निकालने के लिए सरकार ने पहली स्पेशल ट्रेन चला दी है. लॉकडाउन में फंसे 1200 मजदूरों को तेलंगाना से झारखंड के लिए पहली स्पेशल ट्रेन भेजी गयी है.

गौरतलब है कि सरकार के इस कदम के बाद बाहर फंसे हुए लोगों को राहत जरुर मिलेगी. अब आगे कितनी ट्रेन सरकार किस हिसाब से चलाती है इसपर अभी फैसला नही लिया गया है. रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक अरुण कुमार ने कहा है कि तेलंगाना से खुली इस स्पेशल ट्रेन के डिब्बों में लगभग 1200 प्रवासी हैं. ये ट्रेन तेलंगाना के लिंगरपल्ली से खुली है और झारखंड के हटिया जा रही है. सरकार पर पिछले काफी समय से बाहर फंसे हुए मजदूरों को लेकर दवाब बन रहा था जिसके बाद सरकार ने एक रणनीति के तहत अपना काम शुरू कर दिया है. अब ये देखना है कि सरकार ऐसी स्पेशल ट्रेन कहाँ कहाँ और चलाती है.