कश्मीर से दो हफ्ते बाद आई खुशखबरी…

2000

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के अहम प्रावधान हटाए जाने और इसे दो केंद्रशासित प्रदेश में बांटने के फैसले के बाद अब वहां धीरे-धीरे सामान्य हालात होते दिख रहे हैं. कश्मीर घाटी में लगातार 12वें दिन बंद के बाद अब सोमवार को वहां स्कूल-कॉलेज खोले जाएंगे.प्रशासन ने घाटी के सभी स्कूलों-कॉलेजों और सरकारी दफ्तरों को सोमवार से खोलने का निर्देश जारी कर दिया है. वहीं अधिकारियों ने श्रीनगर में लोगों की आवाजाही पर पाबंदियों में भी ढील दी है. इसके अलावा सार्वजनिक परिवहन को भी सोमवार से चालू कर दिया जाएगा.

प्रदेश में इंटरनेट और फोन सेवाओं पर भी पूरी तरह से प्रतिबंध है. अनुमान है कि जल्द ही इन प्रतिबंधों को भी हटा लिया जाएगा. माना जा रहा है कि स्वतंत्रता दिवस के दौरान प्रदेश की स्थिति की समीक्षा के बाद प्रशासन ने यह फैसला लिया है. इसी बीच अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म करने के खिलाफ दायर याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि बिना जानकारी की पुष्टि किए, कुछ सूचनाओं के आधार पर याचिका दायर कर दी गई है.

जम्मू-कश्मीर सरकार के एक अधिकारी ने शुक्रवार को कहा कि, राज्य की स्थिति में तेजी से सुधार हो रहा है. घाटी में स्कूल, काॅलेज और सरकारी दफ्तर सोमवार से खुलेंगे. उन्होंने कहा कि, घाटी में अभी तक जान माल के नुकसान की कोई खबर नहीं आई है. 22 जिलों में से 12 में हालात पूरी तरह सामान्य है. 5 जिलों में सीमित प्रतिबंध लगाए गए हैं. फोन पर लगी पाबंदियां भी धीरे-धीरे हटा दी जाएंगी. उन्होंने बताया कि सुरक्षाबलों की तैनाती पहले की तरह ही है. लोगों को शहर के आसपास और अन्य शहरों में आवाजाही की अनुमति भी दी गई है. घाटी में स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है और सुरक्षाबलों को हटाना जमीनी हालात पर निर्भर करेगा.