दिल्ली में पहले ही दिन फ्री बस सेवा हुई फेल, रूट नंबर गायब, यात्री रहे परेशान

386

दिल्ली के चुनाव से पहले मुख्यमंत्री केजरीवाल वोटर्स को लुभाने के लिए सबकुछ फ्री करते जा रहे हैं, कुछ समय पहले उन्होंने बिजली के दामों को कम कर दिया, उसके बाद ऐलान किया कि वो महिलाओं के लिए सरकारी बसों और मेट्रो में फ्री यात्रा की सुविधा देंगे, लेकिन दिल्ली की जनता को उनके लुभावने प्रस्ताव कुछ खास पसंद नहीं आये थे.

लेकिन फिलहाल हम बात कर रहे हैं महिलाओं के लिए फ्री बस यात्रा के बारे में, जो दिल्ली सरकार ने वादा किया था, उसको भाईदूज के मौके पर लागू कर दिया, लेकिन अब ये योजना बुरी तरह से फेल होती नजर आ रही है..

Public rush in DTC Buses due to free bus service scheme of Delhi Govt.

दरअसल सेवा के शुरू होते ही तमाम कमियाँ जो पहले से सही नहीं की गयीं थी, वो खुलकर सामने आ गई जिसकी वजह से यात्रियों को घंटों बसों का इन्तजार करना पड़ा, न तो समय पर बसें उपलब्ध थीं और न ही बसें यात्रियों के लिए रोकी जा रही थीं, इसके आलावा बस का रूट नंबर बताने वाली डिस्प्ले पर भी कुछ नहीं था, अब बताइए आप बिना रूट नंबर की बस में यात्रा करना भला कैसे सम्भव होगा…

दोपहर करीब 1:15 से 2:15 के बीच केंद्रीय टर्मिनल से नई दिल्ली और यमुना पार के लिए जाने वाली बसों में चढ़ने के लिए यात्रियों को करीब एक घंटे तक इंतजार करना पड़ा. टर्मिनल से बसें आ तो रही थीं मगर रुकने का नाम नहीं ले रहीं थीं,  इस वजह से स्कूल से हुई छुट्टी के बाद छात्र-छात्राओं के घर पहुंचने में देरी हुई तो शिक्षकों के लिए भी मुफ्त सफर परेशानी की वजह बनता नजर आया.

घंटों से भी अधिक समय तक गुरुद्वारा बंगला साहिब और बस स्टॉप पर बसों का इंतजार कर रही महिला यात्रियों ने मुफ्त सफर की सुविधा पर भी तमाम सवाल उठाये, उनके मुताबिक बसों के न रुकने की वजह से उन्हें घर पहुंचने में बेहद देरी हुई और जिसकी वजह से इस सुविधा का कुछ खास लाभ नजर नहीं आता..

दिल्ली सरकार द्वारा ना तो जरूरत के मुताबिक संख्या में बसें मुहैया की गई हैं और न ही यात्रियों को पहले की तरह सुविधा दी जा रही है,

केजरीवाल बेहतरीन सुविधाओं से लैस दिल्ली की शेखी बघारते घूमते हैं लेकिन जमीनी हकीकत तो जमीन पर मौजूद लोगों को ही पता होगी, ये सिर्फ बस सेवा की बात नहीं है, बल्कि दिल्ली सरकार कई और मोर्चों पर भी फेल नजर आई है, चाहे वो मोहल्ला क्लिनिक में डॉक्टर की जगह मौजूद आवारा कुत्तों के घूमने का मामला हो या दिल्ली की हाईटेक लाइब्रेरेरी के बाहर पड़े गंदगी का अम्बार हो.