CAA विरोध के बीच मिली इन 7 पाकिस्तानी शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता

4695

इस वक्त पूरे देश में CAA को लेकर चर्चाएँ और चिंताएं हैं, लेकिन सरकार कह रही है कि ये बिल भारत के पडोसी देशों में प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को एक सम्मानजनक जीवन देने के लिए है इसलिए भारत प्रताड़ित अल्पसंख्यकों के लिए अपने द्वार खोल रहा है. CAA पर मचे घमासान के बीच ही पहले 7 शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्रमाण पात्र सौंपे जा चुके हैं, इसकी किसी को खबर भी नहीं है.

चलिए आपको बताते हैं कहाँ से हैं वो पहले 7 शरणार्थी जिनको भारतीय नागरिकता मिल चुकी है, और किसने उनको ये नागरिकता प्रदान की. दरअसल हाल ही में शुक्रवार को CAA पर मचे बवाल के बीच केन्द्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने पाकिस्तान से आये 7 शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता के प्रमाण पत्र सौंप दिए हैं. साथ ही साथ उन्होंने ये भी कहा कि यह पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश में उत्पीडन का शिकार हुए अल्पसंख्यकों के लिए भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का बेहतरीन प्रयास है. इससे पीड़ित अल्पसंख्यक भी एक सुखी और सम्मानजनक जीवन को व्यतीत कर पाएंगे.

मांडविया ने मोदी सरकार की इस काम को लेकर जमकर तारीफ की और CAA के इस फैसले को उन्होंने अभूतपूर्व बताते हुए प्रधामंत्री मोदी को धन्यवाद भी किया. इसी के साथ ही CAA के बाद पहले 7 नागरिक भी भारत की नागरिक को हासिल कर पाए. आपको बता दें, शुक्रवार को जब मांडविया इन लोगों को नागरिकता प्रमाण पत्र सौंप रहे थे उस दिन देश भर में जमकर CAA के विरोध में हंगामा मचा हुआ था.

भीम आर्मी और मुस्लिम समुदाय ने एक साथ जामा मस्जिद पर विरोध प्रदर्शन किया था. तो वहीँ उत्तर प्रदेश के लखनऊ और फिरोजाबाद में हुए विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गये थे और वहां जमकर आगजनी हुई थी. हालाँकि इस बिल को लेकर तमाम तरह के स्पष्टीकरण हर राज्य सरकार अपने हिसाब से देकर लोगों को समझाने का प्रयास कर रही है लेकिन फिर भी अबतक कुछ लोगों को इसका सही मतलब तक नहीं पता है. ये तमाम वाइरल वीडियोज में सामने आ चुका है.