वेब सीरिज पाताल लोक की वजह से मुश्किल में अनुष्का शर्मा, दर्ज हुई FIR, भाजपा विधायक ने की NSA लगाने की मांग

3739

लॉकडाउन की वजह से फ़िल्में रिलीज नहीं हो पा रही. ऐसे में घर बैठे लोगों के मनोरंजन के लिए वेब सीरिज वरदान की तरह है. हाल ही में अनुष्का शर्मा की वेब सीरिज पाताल लोक रिलीज हुई. इस सीरिज को दर्शकों की मिली जुली प्रतिक्रिया मिली. लेकिन अब ये वेब सीरिज विवादों में फंस गई है और इसकी निर्माता अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के खिलाफ FIR दर्ज हो गई है. गाजियाबाद के लोनी विधानसभा क्षेत्र के विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने तो अनुष्का शर्मा पर रासुका (NSA) लगाने की मांग की है.

मामला दरअसल ये है कि पाताल लोक में एक तस्वीर इस्तेमाल की गई है जिसमे विधायक नंदकिशोर गुर्जर की एक तस्वीर का इस्तेमाल किया गया और उन्हें वेब सीरिज के एक भ्रष्ट नेता के साथ खड़े दिखाया गया है. उस भ्रष्ट नेता की सांठगाँठ अपराधियों के साथ है. जिस तस्वीर को इस्तेमाल किया गया है वो दरअसल योगी आदित्यनाथ के साथ एक नेशनल हाइवे की उद्घाटन की तस्वीर है जिसमे भाजपा के कई अन्य नेता नज़र आ रहे हैं. लेकिन उसमे योगी आदित्यनाथ की तस्वीर को भ्रष्ट नेता से रिप्लेस कर दिया गया और बाकी लोगों की तस्वीरों को जस का तस इस्तेमाल कर लिया गया.

ये है असली तस्वीर जिसमे नंदकिशोर गुर्जर के साथ योगी आदित्यनाथ नज़र आ रहे हैं
ये है पाताल लोक में इस्तेमाल की गई तस्वीर, योगी आदित्यनाथ को एकक भ्रष्ट नेता से रिप्लेस कर दिया गया . इसमें पीछे नंदकिशोर गुर्जर नज़र आ रहे हैं

नंद किशोर गुर्जर ने कहा, ‘पाताललोक वेब सीरीज बालकृष्ण वाजपेयी नाम के अपराधी से संबंध वाले नेता के साथ एक मार्ग का उद्घाटन करते हुए मेरे फोटो और अन्य बीजेपी नेताओं को दिखाया गाय है. मैं वर्तमान में बीजेपी का विधायक हूं और मेरी अनुमति लिए बगैर मेरी तस्वीर का इस्तेमाल एक राष्ट्रविरोधी और सनातन धर्म जातियों के ताने-बाने को तहस-नहस करने वाली पाताललोक वेब सीरीज में शामिल कर राष्ट्र द्रोह का कार्य किया गया है.’

अपनी तहरीर में उन्होंने आगे कहा, ‘ इस वेब सीरिज में गुर्जर जाति का चित्रण डकैत और गलत कार्यों में शामिल कर, पंजाब के जाट, ब्राह्मण त्यागी आदि जातियों को आपस में जातीय भेदभाव और जातिसूचक शब्दों के माध्यम से इनका जीव निम्नस्तर को दर्शाया गया है. जिससे समाज की आपसी सदभावना को भड़काया जा रहा है. जो धर्म चींटी को भी आटा डालता है और विश्व कल्याण की कामना करता है, उस धर्म की छवि बिना कारण मॉब लिचिंग की घटना को 1990 रामजन्मभूमिक के कारसेवकों से जोड़कर प्रदर्शित की गई है. इसमें हमारी जांच एजेंसी को भी कटघरे में खड़ा किया गया है. भारतीय नागरिकों को ही पाकिस्तानी और हिज्बुल आंतकी बताकर पाकिस्तान के खिलाफ वैश्विक स्तर पर भारत की आंतक के खिलाफ मुहिम को चोट पहुंचाई गई है.’ इस आधार पर उन्होंने अनुष्का शर्मा पर रासुका लगाने और इस वेब सीरिज पर रोक लगाने की मांग की है.