देखिये बजट तैयार करने में किन दिग्गज लोगों ने वित्त मंत्री की मदद की है

398

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार के दुसरे कार्यकाल के पहले बजट की तैयारियों में जुट गयी है. शुक्रवार को सदन में बजट पेश किया जाएगा. माना जा रहा है कि इस बजट में सरकार महिलाओं किसानों और अर्थवयवस्था के लिए कई बड़े एलान कर सकती है. हालाँकि अभी हम आपको ये बताने जा रहे हैं कि निर्मला सीतारमण वित्त मंत्री रहते हुए जब अपना पहला बजट पेश करने जा रही हैं ऐसे में सवाल ये भी मन में उठता है कि आखिर बजट तैयार कौन करता है और अभी जो बजट पेश होने वाला है उसे किन लोगों ने तैयार किया है तो आइये हम आपको उन अधिकारीयों से रूबरू करवाते हैं जिन्होंने इस बजट को तैयार करने में अहम् भूमिका निभाई है. इकोनॉमिक टाइम्स के अनुसार बजट तैयार करने में मुख्य रूप से 6 दिग्गज अधिकारियों ने वित्त मंत्री की मदद की है. जिसमें पहले नंबर पर है.

  1. राजीव कुमार, वित्तीय सेवाएं विभाग के सचिव
    मोदी सरकार के कई प्रमुख एजेंडा जैसे सार्वजनिक बैंकों के विलय, फंसे कर्जों पर अंकुश आदि पर काम करने में राजीव कुमार की महत्वपूर्ण भूमिका रही है. फिलहाल उनके पास बीमा कंपनियों के विलय और सार्वजनिक बैंकों में सुधार की भी जिम्मेदारी है. देखना होगा कि बजट में उनकी सलाह किस रूप में सामने आती है.
  2. जीसी मुर्मू, व्यय सचिव
    गुजरात काडर के आईएएस अधिकारी मुर्मू इसके पहले भी वित्तीय सेवाएं में काम कर चुके हैं. वह योजनाओं को अमलीजामा पहनाने में माहिर हैं. उनके सामने चुनौती यह थी कि प्रधानमंत्री की पसंदीदा योजनाओं को भी पूरी तरह आगे बढ़ाया जाए और खर्चों पर भी अंकुश रहे.
  3. अजय भूषण पांडेय, राजस्व सचिव
    आधार कार्ड को सफल तौर पर पूरा करने वाले अजय भूषण पाण्डेय इस बजट में क्या नए उपाय लेकर आते हैं और क्या टैक्स बढ़ाने और टैक्सपेयर्स की सुविधा बढ़ाने के लिए टेक्नोलॉजी का विस्तार किया जाएगा? ये सब बजट आने के बाद पता चलेगा कि उन्होंने क्या सुझाव दिया है.
  4. सुभाष गर्ग, वित्त और आर्थ‍िक मामलों के सचिव
    वित्त मंत्रालय के पुराने खिलाड़ी सुभाष गर्ग अर्थव्यवस्था की कई चुनौतियों से परिचित है. ग्रोथ रेट कम होने, निजी निवेश घटने के हालात में उपाय किस तरह से किया जाएं कि सरकारी खजाना भरा रहे, इसमें गर्ग की सलाह महत्वपूर्ण हो सकती है.
  5. के. सुब्रमण्यन, मुख्य आर्थिक सलाहकार (CEA)
    सुब्रमण्यन को रघुराम राजन ने पढ़ाया है. उन्होंने अमेरिका के शिकागो यूनिवर्सिटी से प्रोफेसर लुइगी जिंगालेस और रघुराम राजन के नेतृत्व में फाइनेंशियल इकोनॉमिक्स से पीएचडी किया है. रघुराम राजन देश के बड़े अर्थशास्त्री हैं. अर्थव्यवस्था की सुस्ती को दूर करने के लिए उनकी सलाह निश्चित रूप से बजट तैयार करने में सीतारमण के लिए काफी काम आई होगी.
  6. अतानु चक्रवर्ती, डीआईपीएएम सचिव
    1985 बैच के गुजरात काडर के इस आईएएस अधिकारी ने पिछले साल सरकार के विनिवेश (सार्वजनिक उपक्रमों में सरकारी हिस्सेदारी बेचने की प्रक्रिया विनिवेश कहलाती है) इसी लक्ष्य को पूरा करने में काफी मदद की थी. उन्होंने इसके लिए कई अनूठी सलाह दी थीं. अभी भी सार्वजनिक कंपनियों की हिस्सेदारी बेचने का महत्वपूर्ण एजेंडा उनके सामने हैं. वित्त मंत्री को निश्चित रूप से उनके सलाह से इस मामले में काफी मदद मिली होगी.


    खैर अब जल्द ही बजट पेश होने वाला है और इस बजट में किसे क्या मिल रहा है देखने वाली बात होगी. हम आपको बजट से जुड़ी सभी जानकारियों आप तक पहुंचाएंगे.