हैदराबाद की घटना पर डिबेट में भिड़ गयी अंजना ओम कश्यप और अलका लांबा, सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

20836

हैदराबाद में हुई महिला डॉक्टर की घटना टीवी चैनलों की सुर्ख़ियों में छाई हुई है. लगातार महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल खड़ा किया जा रहा है. इस खबर को लेकर टीवी डिबेट भी हो रहे है. इसी मुद्दे पर एक डिबेट आज तक चैनल पर भी आयोजित की गयी थी. इस डिबेट में अलका लांबा भी मौजूद थी और एंकरिंग अंजना ओम कश्यप कर रही थी.. हालाँकि इस डिबेट में कुछ ऐसा हो गया कि अलका लांबा डिबेट छोड़कर भागती नजर आई.

दरअसल इस घटना के बाद से कई टीवी चैनलों और सोशल मीडिया पर लगातार हैदराबाद की पीड़ित माहिला डॉक्टर का नाम बार-बार लिया जा रहा था. इसके बाद परिवार वालों की आपत्ति के बाद पुलिस ने गाइडलाइन जारी कर नाम लेने की बात कही थी. वहीँ जब डिबेट में एक सवाल पूछते समय एक बच्ची ने महिला डॉक्टर का नाम ले लिया तो अंजना ने उसे समझाते-समझाते अलका से भी नाम ना लेने के लिए निवेदन किया.

इस पर अलका लांबा बुरी तरह भड़क गयी और आज तक चैनल पर प्रोपगेंडा चलाने का आरोप लगाना शुरू कर दिया. अलका लांबा का कहना था कि उन्होंने पीड़ित महिला का नाम लिया ही नही. हलाँकि अंजना ने कहा कि मुझसे अगर कोई गलती हुई तो मैं माफ़ी चाहती हूँ लेकिन मै MCR से प्रार्थना करती हूँ कि अलका लांबा ने जहाँ पर बच्ची का नाम लिया है उसका हिस्सा दिखाया जाए.

आप दिए गये वीडियो में साफ़ देख सकते है कि अलका ने पीड़ित महिला का नाम एक बार नही बल्कि बार बार लिया है. हालाँकि जब अलका का झूठ पकड़ लिया गया तो वे “शेम ऑन यू आज तक” कहकर अपना माइक उतारा और स्टेज से नीचे चली गयी. हालाँकि इतने से भी मन नही भरा तो अंजना को किसी फ़िल्मी स्टाइल में डायलोग भी सुना गयीं.

जैसा कि वीडियो में हमने साफ़ देखा कि अलका लांबा ने लड़की का नाम लिया तो अंजना ने ऐसा फिर करने से मना किया. इसमें अलका लांबा को इतना अधिक उत्तेजित होने की जरूरत नही थी और टीवी चैनल के लिए एडवाइजरी क्यों जारी पड़ती है कि किसी पीडिता के नाम मत लो? क्या ये कॉमनसेन्स नही है? ये सोशल मीडिया पर मौजूद लोगों की कोई जिम्मेदारी नही है? जिस तरह सोशल मीडिया पर पीडिता के नाम को उछाला गया वो कितना सही था? हमें कमेन्ट करके जरूर बताइये.