पिता ने अपनी ही बेटी से तीन महीने तक किया दु’ष्कर्म

932

एक बाप जिसपर घर की जिम्मेदारियां होती है,एक बाप जिसके साथ बेटियां सबसे ज्यादा सेफ फील करती, अगर वही बाप कुछ ऐसा कर दे कि उसी का परिवार उससे रिश्ता तोड दे तो आपको कैसा लगेगा। ऐसा ही एक शर्मनाक मामला अहमदाबाद के वटवा क्षेत्र के मु’स्लिम परिवार से सामने आया है । एक पिता को अपनी ही 9 साल की बेटी के साथ पिछले तीन महिनों से दु’ष्कर्म करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पत्नी द्वारा उसके घर पर बच्ची के साथ दु’ष्कर्म करते पकड़े जाने के बाद ये सच्चाई सामने आई और बच्ची की मां ने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई. फिर पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया। आ’रोपी पिता ओटो रिक्शा चलाने का काम करता है।

पीड़ित लड़की ने अपनी माँ को बताया था कि,उसके पिता उससे पिछले तीन महीने से गंदी हरकतें करते है। लेकिन माँ ने उसकी बात पर ध्यान नहीं दिया। लेकिन 28 जुलाई को जब लड़की की माँ कुछ काम के लिए बाहर गई थी.तब आ’रोपी पती ने फिर लडकी के साथ दुष्कर्म करने की कौशिश की, लेकिन लड़की की किस्मत अच्छी थी कि कुछ देर बाद उसकी माँ घर वापस आई तो उन्होंने उसके पिता को अपनी ही बेटी के साथ दु’ष्कर्म करते देख लिया और उसे अपनी बेटी की बात पर यकीन हो गया। फिर उसने उसकी पि’टाई की और अपने ससुराल वालों को भी इस मामले के बारे में सूचित किया।

पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर एचवी सिसारा ने कहा कि, “जब वो घर में अकेले रहती थी तब उसका पिता उसके साथ गंदी हरकतें करता था। और पिता के डर के कारण लड़की ने किसी से घटना के बारे में नहीं बोला और ये दु’ष्कर्म सहती रही।” लडकी का मेडिकल चेकअप किया गया, जिसमें दुष्कर्म की बात साफ हो गई। इसके बाद फरार आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया गया। एफएसएल की टीम द्वारा जांच की जा रही है। पुलिस ने पिता पर इंडियन पैनल कोड और सख्त POCSO एक्ट की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। दोषी साबित होने पर उन्हें 10 साल तक की जेल हो सकती है।

ऐसे ही कई मामले सामने आए दिन सामने आते रहते है। एक तरफ जहां सरकार बेटी बचाओ,बेटी पढाओ जैसे कार्यक्रमों को बढावा दे रही हे वही दूसरी तरफ ऐसे मामले सामने आ रहे है जहां बेटियां अपने घर में ही सेफ फील नही करती। ऐसे मामले हमें ये सोचने के लिए मजबूर करते है कि आखिर ये देश किस दिशा में जा रहा है। अगर उसकी माँ ने अपनी बेटी की बात पर ध्यान दिया होता तो उसके साथ ऐसा ना होता।