बड़ी पत्रकार को भाजपा रैली की झूठी फोटो डालना पड़ गया भारी

341

लोकसभा चुनावों का टाइम धीरे धीरे नजदीक आ रहा है..ऐसे में राजनैतिक पार्टियों के लीडर बड़े बड़े राज्यों में जाकर अपनी रैलीयां कर रहे है..रैलीयों में उमड़ी भीड़ देख कर ही पता लगता है कि किस नेता का कितना रोला है या मास ऑडियंस के उपर कितना प्रभाव है..इन रैलीयों पे मीडिया की नजर के साथ साथ बिपक्षी पार्टियों की भी पैनी नजर रहती है..कि किस कि रैली में कितनी भीड़ उमड़ रही है..या इनकी रैली का कोई प्रभाव हुआ भी है या नहीं..अपने स्पीच देते हुए विपक्षी लीडर ने कोई गलती कि या नहीं..और ट्रोल करने के लिए कुछ हुआ के नहीं आप देख रहे होंगे कि सभी पार्टियाँ पूरे जोर के साथ चुनाव मैदान में उत्तेर चुकी है ,pm मोदी भी चुनाव मैदान राण में उतर चुके है.. उन्होंने मेरठ से अपने चुनावी प्रचार की शुरुआत की,अब pm मोदी की इस रैली पर सब ने पैनी नजर बना राखी थी..और रैली होते ही कुछ बड़े पत्रकारों ने इस पर भी फेक न्यूज़ फैलाना शुरू कर दिया..दरअसल जर्नलिस्ट ने खाली पड़ी कुर्सियों की फोटो डालकर यह दिखाने की कोशिश की कि पीएम मोदी की रैली में बहुत कम भीड़ आई, इससे शायद वो ये दिखाना चाहती होंगी कि जो राहुल गाँधी जी के साथ और केजरीवाल जी के साथ उनकी रैलीयों में हुआ था..कि लोग रैली में आये ही नहीं थे और आयोजकों को बाद में वो कुर्सियां हटवानी पढ़ी थी, वो कोई बड़ी बात नहीं है मोदी की रैली में भी ऐसा ही हुआ है ,लेकिन कुछ समय बाद कुछ ऐसा हुआ कि उन्होंने खुद को ही एक्सपोज़ कर लिया।

अब आप सोच रहे होंगे कैसे..तो चलिए हम आपको बताते है, इन पत्रकार का नाम है माया मीरचंदानी ये द वायर एवं एनडीटीवी में काम कर चुकी इन्होने पीएम की रैली की एक फोटो ट्वीट करते हुए लिखा “सामने लोगों की भीड़ लेकिन पीछे खाली पड़ी कुर्सियां,जबकि आज पीएम मोदी यहाँ मेरठ से अपने चुनावी प्रचार की शुरुआत करने वाले हैं.. हालांकि, लोगों ने जल्द ही यह समझ लिया कि यह फोटो लोगों को गुमराह करने के लिए और फेक न्यूज़ फ़ैलाने के लिए के लिए अपलोड की गई है..एक यूज़र ने उसी रैली की लाइव वीडियो से स्क्रीनशॉट लेकर उनको कमेंट कर वहां मौजूद भीड़ को तुरंत दिखाया।

उसके बाद एक यूज़र ने ये लिख कर ट्वीट किया कि आपके द्वारा अपलोड की गई फोटो सुबह 7 बजे की है ,तो ज्यादा देरी ना करते हुए उन्होंने इसके जवाब में तुरंत लिखा कि वह फोटो दोपहर 12 बजे की है..लेकिन शायद वो जल्दबाजी में यह ट्वीट करते हुए वह इस बात को भूल गई कि उन्होंने खुद वो ट्वीट दिन के 11 बजकर 37 मिनट पर किया है। तो ऐसे में इस फोटो का दोपहर 12 बजे का होने का सवाल ही नहीं नै पैदा होता..उसके बाद cnn न्यूज़ 18 की जर्नलिस्ट मरिया शकील ने भी मेरठ रैली की कुछ फोटोज अपने twitter अकाउंट पे शेयर किया है..इन फोटोज में आप भीड़ देख ही सकते है..

अब माया मीरचंदानी जी का इस ट्वीट के पीछे क्या मकसद था ये बात तो वही जान सकती है..अब हम इस को फेक न्यूज़ कहे या फेक प्रोपगंडा समझ नहीं आ रहा है..पर हम आपसे जरूर कहना चाहेंगे कि आप किसी भी फेक न्यूज़ या फेक वीडियो पर जल्दी विश्वास ना करे..