अगरआप फेसऐप यूज कर रहें हैं तो करें मौलाना की इन बातों पर गौर

जैसे Sarahah ऐप का खूब ट्रेंड चला था, वैसे ही कुछ दिनों से फेस ऐप का ट्रेंड शुरू हो गया है। फेस ऐप एक ऐसा ऐप है जो आज कल काफी पॉपुलर हो रहा है । इसकी शुरुआत सेलिब्रिटीज और क्रिकेटर्स ने किया था। फिर आम लोगों में ये क्रेज दिखा ,जिसमें वो अपनी ओल्ड ऐज फोटो देखकर काफी खुश दिख रहे हैं और उसे सोशल मिडिया पे शेयर भी कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये ऐप नया नहीं है, पर भारत में ये आज कल ट्रेंड में है। फेस ऐप के मुताबिक कंपनी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नॉलजी का इस्तेमाल करके ऐसा करती है।

इस ऐप में न सिर्फ ऐज बल्कि इस ऐप में यंगर लुक, जेंडर स्वैप जैसे फीचर भी मौजूद हैं। लेकिन इस ऐप को लेकर भी रांची के एक मौलाना ने ये कह दिया है कि इसे यूज करना हराम है। जो भी इसका उपयोग करेगा वो अल्लाह की नजर में गुनहगार होगा। फेस ऐप कुछ दिनों से काफी चर्चा में रहा है, लेकिन कुछ लोग हैं जो इसे भी धार्मिक तौर से देख रहे हैं। ऐसा ही कहना एक झारखंड के नाजीम ए आला मौलाना कुतुबुद्दीन रिजवी का भी है जो इस ऐप को इस्तेमाल करने से मना कर रहे हैं।

मौलाना की नजर में इस ऐप का यूज करने पर आप अल्लाह की नाराजगी का जरिया बन जाएँगे, क्योंकि इस ऐप का इस्तेमाल हराम क़रार दिया गया है। अगर कोई इसका यूज करता है तो वह गुनहगार होगा। इसीलिए इस ऐप का इस्तेमाल ना करने को मौलाना साहब मना कर रहे है। वहीं मुस्लिम समाज की छात्राएं इस आदेश को गलत बता रही हैं। उनका कहना है कि यह ऐप सिर्फ मनोरंजन के लिए बनाई गई है और इसके बीच भी धर्म और राजनीती को लाना गलत है। जनता का कहना है कि अब सभी को इतनी समझ है कि वो सोच सके कि कौन सी चीज उनके लिए सही है या नहीं।

Related Articles